--Advertisement--

5 कंट्रोल रूम से होगी चुनाव की निगरानी

शनिवार को शाम ढलने के साथ नगर निकाय चुनाव का चुनाव प्रचार थम गया है। प्रचार के अंतिम दिन शनिवार को सभी पद के...

Danik Bhaskar | Apr 15, 2018, 02:45 AM IST
शनिवार को शाम ढलने के साथ नगर निकाय चुनाव का चुनाव प्रचार थम गया है। प्रचार के अंतिम दिन शनिवार को सभी पद के उम्मीदवारों ने ताकत झोंक दी। भाजपा कांग्रेस झारखंड मुक्ति मोर्चा एवं झारखंड विकास मोर्चा द्वारा अपने समर्थित उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करने के लिए अधिक से अधिक वोटरों को अपने पक्ष में मतदान करने को कहा। 15 अप्रैल को ईवीएम एवं आवश्यक सामग्री वितरण के लिए काशी साहू कॉलेज मैदान में 6 डिस्पैच काउंटर बनाए गए हैं। इसमें सरायकेला नगर पंचायत के 11 मतदान केंद्रों के लिए एक काउंटर, कपाली नगर परिषद के 21 मतदान केंद्रों के लिए एक काउंटर व आदित्यपुर नगर निगम के 108 मतदान केंद्रों के लिए कुल 4 डिस्पैच काउंटर बनाए गए हैं, जहां पोलिंग पार्टियों को सुबह 9 बजे से व सामग्री वितरण किया जाएगा। नगर निकाय चुनाव के लिए 5 कंट्रोल रूम बनाए गए हैं। इसमें अनुमंडल कार्यालय सरायकेला, अनुमंडल कार्यालय चांडिल, सरायकेला, गम्हरिया व चांडिल प्रखंड कंट्रोल रूम बनाया गया है। मतदान केंद्रों पर पेयजल ,शौचालय एवं रैंप की व्यवस्था रहेगी।

सरायकेला

नगर निकाय चुनाव

ये भी जानें

कुल वोटर

1- सरायकेला नगर पंचायत

कुल वोटर 9637

2- आदित्यपुर नगर निगम

कुल वोटर 1092288

3- कपाली नगर परिषद

कुल वोटर 17411

ईवीएम -140 तथा 20% अतिरिक्त - वाहन- 140 तथा 20% अतिरिक्त

मतदान केंद्रों की संख्या-

1- सरायकेला नगर पंचायत - कुल वार्ड 11 व मतदान केंद्र 11

2- आदित्यपुर नगर निगम - कुल वार्ड 35 व मतदान केंद्र 108

3- कपाली नगर परिषद - कुल वार्ड 21 व मतदान केंद्र 21

अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र पर विशेष नजर

आदित्यपुर नगर निगम में अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों की संख्या 42 है, जबकि कपाली नगर परिषद में अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों सभी 21 हैं। इसके अलावा संवेदनशील मतदान केंद्रों में सरायकेला के सभी 11 मतदान केंद्र व आदित्यपुर नगर निगम के 63 मतदान केंद्र शामिल हैं। अतिसंवेदनशील मतदान केंद्रों में पुलिस बल की व्यवस्था पहले से कर दी गई है। इसमें जिला में उपलब्ध बल 440 है तथा बाहर से 660 पुलिस बल मंगाए गए हैं। इसमें 82 महिला पुलिस शामिल होंगी। सुरक्षा को लेकर निर्वाचन आयोग की ओर से कड़े निर्देश दिए गए हैं।