• Home
  • Jharkhand News
  • Saraikela
  • ऑडिट में 54 मामलों की सुनवाई, गड़बड़ी पर जेई की सेवा समाप्त करने का आदेश
--Advertisement--

ऑडिट में 54 मामलों की सुनवाई, गड़बड़ी पर जेई की सेवा समाप्त करने का आदेश

मनरेगा कार्यों में सामाजिक अंकेक्षण की जनसुनवाई शनिवार को सामुदायिक भवन में हुई। इसमें पूरे जिले के 54 मामलों पर...

Danik Bhaskar | Jul 08, 2018, 04:05 AM IST
मनरेगा कार्यों में सामाजिक अंकेक्षण की जनसुनवाई शनिवार को सामुदायिक भवन में हुई। इसमें पूरे जिले के 54 मामलों पर सुनवाई हुई। इसमें कुकड़ू प्रखंड के 13 मामले, नीमडीह प्रखंड के 12, राजनगर प्रखंड के 7, सरायकेला प्रखंड के 8, कुचाई प्रखंड के 2 ,चांडिल, गम्हरिया और ईचागढ़ प्रखंड के 4-4 मामलों पर सुनवाई हुई। जन सुनवाई के दौरान डीसी छवि रंजन डीआरडीए डायरेक्टर अनिता सहाय, रांची से आए उज्जवल और सभी प्रखंडों से आए बीडीओ, बीपीओ व मनरेगा कर्मी उपस्थित रहे। मनरेगा कार्यों में विभिन्न विसंगतियों को दूर करने के लिए प्रखंड स्तर पर जन सुनवाई हुई इसमें 1165 मामलों का निष्पादन हुआ है। इसमें सर्वाधिक मामले कुचाई प्रखंड के 271 मामले रहे हैं तथा सबसे कम नीमड़ी प्रखंड के 40 मामले रहे।

मनरेगा योजना में सबसे कम नीमड़ीह प्रखंड के 40 मामले आए

जनसुनवाई के दौरान डीसी छवि रंजन, अन्य पदाधिकारी, बीडीओ व मनरेगा से जुड़े कर्मीचारी।

कनीय अभियंता को लगाया 9000 रुपए का अर्थदंड

डीसी छवि रंजन ने गम्हरिया प्रखंड के नुवागढ़ पंचायत के मनरेगा के एक योजना में काफी विसंगति पाईं। डीसी ने कनीय अभियंता अनुराग मोरिया पर ₹9000 अर्थदंड व सेवा समाप्त करने का निर्देश दिया है। जन सुनवाई के दौरान एक मामले में मास्टर रोल तथा एमबी बुक में निकासी होने वाले रुपयों में समान नहीं पाया गया। दोनों में काफी अंतर रहा। इसके अलावे चांडिल प्रखंड के एक मामले में सनाह दर्ज करने तथा ईचागढ़ ट्रक प्रखंड के मनरेगा अंतर्गत एक ही योजना में पुनः जांच कर 48 घंटे के अंदर प्रतिवेदन देने का निर्देश दिया गया है।