Hindi News »Jharkhand »Sisai» ओलमुंडा को कृषि हब के रूप में किया जा सकता है विकसित

ओलमुंडा को कृषि हब के रूप में किया जा सकता है विकसित

सिसई प्रखंड अंतर्गत ओलमुंडा पंचायत सचिवालय में विकास भारती बिशुनपुर के सचिव पद्मश्री अशोक भगत का दर्शन व...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 23, 2018, 04:05 AM IST

सिसई प्रखंड अंतर्गत ओलमुंडा पंचायत सचिवालय में विकास भारती बिशुनपुर के सचिव पद्मश्री अशोक भगत का दर्शन व मार्गदर्शन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर पद्मश्री अशोक भगत का स्वागत कर कार्यक्रम स्थल तक लाया गया। उन्होंने कहा कि यह ओलमुंडा पंचायत दक्षिणी कोयल नदी के तट पर है। यहां विकास की कई संभावनाएं है। नवंबर-दिसंबर माह में यहां आकर प्रत्येक गांव का दौरा करूंगा और हर गांव की बुनियादी समस्याओं को दूर करने का प्रयास करूंगा। उन्होंने कहा कि दक्षिणी कोयल नदी से माइक्रो लीप एरिगेशन के माध्यम से किसानों के खेत में पानी पहुंचाया जा सकता है। इस पंचायत को कृषि हब के रूप में विकसित किया जा सकता है। ओलमुंडा पंचायत के असरों गांव में स्थित छटका पहाड़ को पर्यटन के रूप में विकसित किया जा सकता है। वहीं अमकोली, बाकूटोली, आेलमुंडा आसैर असरों गांव के ट्रांसफार्मर दो-चार माह पूर्व जल चुका है। यहां के ग्रामीण बिजली से वंचित है। ऐसा कुछ लोगों ने बताया है। उन्होंने उक्त गांव में नया ट्रांसफार्मर लगाने का आश्वासन दिया। महिलाओं को महिला मंडल के रूप में जोड़ा गया है। नियमित बैठक होती है। जिसका भवन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। जिससे महिलाओं को बैठक व अन्य कार्यक्रमों करने का मौका मिलेगा। उन्होंने कहा कि यहां की महिलाएं सिसई रेफरल अस्पताल में इलाज कराने जाती हैं। भगत ने कहा कि यहां की समस्याओं से सीएम, विधायक व सांसद को अवगत कराकर दूर कराने का प्रयास करूंगा। कार्यक्रम के उपरांत वृक्षा रोपण भी किया गया। इस मौके पर बंसत यादव, रजेन्द्र राम गोप, हीरा लाल बड़ाईक, छेदी भगत, अलकेश्वर भगत, खजबुल खान, घनश्याम उरांव, रंथु उरांव, सरस्वती देवी, गौरी देवी, एतवारी देवी, अनीता देवी, कौशल्या देवी, शीला सुशीला देवी, मैमून बीवी समेत कई लाेग मौजूद थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sisai

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×