• Home
  • Jharkhand News
  • Tamar
  • पुलिया निर्माण के लिए खोदे गए गड्ढे में गिरने से युवक की मौत, दो साथी गंभीर रूप से घायल
--Advertisement--

पुलिया निर्माण के लिए खोदे गए गड्ढे में गिरने से युवक की मौत, दो साथी गंभीर रूप से घायल

कान्हाचट्टी | राजपुर थाना क्षेत्र के गोहमाठी गांव निवासी स्व. भीखलाल दांगी के 22 वर्षीय पुत्र मिथुन दांगी की मौत...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:55 AM IST
कान्हाचट्टी | राजपुर थाना क्षेत्र के गोहमाठी गांव निवासी स्व. भीखलाल दांगी के 22 वर्षीय पुत्र मिथुन दांगी की मौत ऊंटा मोड़- कान्हाचट्टी सड़क पर पुलिया के लिए खोदे गए गड्ढे में गिरने से हो गई। यह घटना मंगलवार देर रात की है। मिथुन अपने दो अन्य साथियों के साथ बाइक से चतरा से राजपुर लौट रहे थे। इसी दौरान उनकी बाइक ऊंटा मोड़- कान्हाचट्टी सड़क पर पुलिया निर्माण के लिए खोदे गए एक गड्ढे में जा गिरी। पुलिया के लिए खोदे गए गड्ढे से पूर्व किसी तरह की बैरिकेडिंग या पथ अवरोधक के निशान नहीं दिए गए थे। इसके कारण उनकी बाइक सीधे गड्ढे में जाकर समा गई। इस घटना में उसकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई।

जबकि बाइक पर सवार उसके दो अन्य साथी राकेश कुमार यादव व राहुल ठाकुर बुरी तरह घायल हो गए। इस घटना की सूचना मिलने के बाद मिथुन के परिजन घटनास्थल पर पहुंचे और उन्हें इलाज के लिए चतरा ले गए। वहां डॉक्टरों ने मिथुन को मृत घोषित कर दिया।

हालांकि दोनों घायल युवक अब खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं। घटना के दूसरे दिन चतरा सादर थाना प्रभारी रामअवध सिंह ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। पोस्टमार्टम के बाद शव को उसके परिजनों को सौंप दिया गया। इसके बाद बुधवार को घटना के विरोध में आक्रोशित ग्रामीणों ने चतरा-चौपारण मार्ग को शव के साथ जाम कर दिया।

इसकी सूचना मिलते ही चतरा सदर थाना प्रभारी रामअवध सिंह एवं चतरा सीओ सुमन कुमार जाम स्थल पर पहुंचे। ग्रामीण मृतक के परिजनों के लिए दस लाख रुपए मुआवजा व एक परिवार को नौकरी देने की मांग कर रहे थे। ग्रामीण सड़क निर्माण के संवेदक पर प्राथमिकी दर्ज करने की भी मांग कर रहे थे। हालांकि आधा घंटा बाद ही सीओ व थाना प्रभारी के आश्वासन के बाद जाम हटा लिया गया। अधिकारियों ने पारिवारिक लाभ योजना से लाभ देने तथा संवेदक पर लापरवाही बरतने का मामला दर्ज करने का आश्वासन दिया। मिथुन की असामयिक निधन से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मिथुन के पिता की मौत दो वर्ष पूर्व कैंसर बीमारी से हो गई थी। मृतक घर का एक मात्र सहारा था। उसकी मौत पर उसकी दोस्तों व ग्रामीणों ने होली नहीं मनाने का निर्णय लिया है।

मिथुन दांगी