• Hindi News
  • Jharkhand
  • Tenughat
  • एफआईआर के बाद भी गिरफ्तारी नहीं, ग्रामीण कर रहे हैं विरोध
--Advertisement--

एफआईआर के बाद भी गिरफ्तारी नहीं, ग्रामीण कर रहे हैं विरोध

Dainik Bhaskar

May 07, 2018, 03:40 AM IST

Tenughat News - पेटरवार तेनुघाट ओपी थाना क्षेत्र के चांपी पंचायत के रोहणश्री टोला में 27 अप्रैल की रात हुई घटना को लेकर पंचायत के...

एफआईआर के बाद भी गिरफ्तारी नहीं, ग्रामीण कर रहे हैं विरोध
पेटरवार तेनुघाट ओपी थाना क्षेत्र के चांपी पंचायत के रोहणश्री टोला में 27 अप्रैल की रात हुई घटना को लेकर पंचायत के ग्रामीणों ने बैठक कर प्रशासन का विरोध किया। ग्रामीणों का कहना है कि एफआईआर के अनुसार अभी तक दोषी अभियुक्त को गिरफ्तारी हो जानी चाहिए थी, परंतु दोषी आराम से घूम रहे हैं और प्रशासन मौन है।

ग्रामीणों ने बताया कि 27 अप्रैल को गांव में शादी समारोह था। मृतक की बहन संगीता कुमारी ने जानकारी दी कि रात लगभग 12 बजे अंशु कुमारी घर आई और शादी के सामान देखने के बहाने बड़े पापा के घर मुझे ले गई। बड़े पापा के घर में अंतु सोया हुआ था। अंतु नींद में था उठाने पर नहीं उठा, बहुत कोशिश के बाद अंतु उठा। अंशु और अंतु दोनों एक ही साथ खाना खाए, उसके बाद दोनों वहां से गायब हो गए। अहले सुबह अंतु श्यामलता जोरिया में बेहोशी हालत में मिला। तुरंत उठाकर उपचार के लिए जैनामोड़ संत उपेल हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां इलाज के दौरान मौत हो गई। मृतक की मां ने बताया कि मेरा बेटा को दो बोतल सलाइन के बाद लड़खड़ाते स्थिति में होश आया तो बोला की मां मुझे अंशु के पिता फूलचन्द मांझी के घर वालों ने मारा है।

आगे मृतक की मां ने बताया की मैं दो बजे रात को शौच के लिए बारी तरफ गई थी तो देखा कि प्रदीप हेम्ब्रम, मंटू हेम्ब्रम, खिरोधर हेम्ब्रम, बीरबल हेम्ब्रम हाथ में लाठी डंडा लेते जोरिया तरफ से आ रहा था। उसी सुबह मेरा बेटा बेहोशी की हालत में मिलता है। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वही अंशु से पूछे जाने पर बताया कि मैं शादी घर गई थी पर अंतु से नहीं मिली और ना ही संगीता से मिली। इस संबद्ध में ग्रामीणों का कहना है कि अंशु और उनके पिता की गिरफ्तारी होनी चाहिए।

ओपी प्रभारी त्रिलोचन तामशन ने कहा कि साक्ष्य में जुटाने में लगा हूं। अनुसंधान जारी है, हम गिरफ्तारी के लिए घूम रहे हैं पर अभियुक्त फरार है। जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। मौके पर पंसस सुखलाल मुर्मू, सीताराम मुर्मू, बिहारी मांझी, देवीलाल सोरेन, परगना मरांडी, रसिक हेम्ब्रम, खिरोधर पवरिया, बुधन गंझू, चमन गंझू, गोबिंद हेम्ब्रम, सोयल मांझी, भैरव मांझी, सहदेव मांझी, विक्रम आदि उपस्थित थे।

प्रशासन का विरोध करने एकजुट हुए ग्रामीण।

X
एफआईआर के बाद भी गिरफ्तारी नहीं, ग्रामीण कर रहे हैं विरोध
Astrology

Recommended

Click to listen..