• Home
  • Jharkhand News
  • Torpa
  • अपने संदेश में बिशप विनय बोले-गुड फ्राइडे तभी सार्थक होगा जब हम ख्रीस्त की तरह अपने जीवन से दूसरों को खुशी देंगे
--Advertisement--

अपने संदेश में बिशप विनय बोले-गुड फ्राइडे तभी सार्थक होगा जब हम ख्रीस्त की तरह अपने जीवन से दूसरों को खुशी देंगे

खूंटी शहर व आसपास के क्षेत्रों मसीही विश्वासियों ने त्याग व बलिदान का पर्व गुड फ्राइडे मनाया। खूंटी के आरसी चर्च,...

Danik Bhaskar | Mar 31, 2018, 03:40 AM IST
खूंटी शहर व आसपास के क्षेत्रों मसीही विश्वासियों ने त्याग व बलिदान का पर्व गुड फ्राइडे मनाया। खूंटी के आरसी चर्च, जीईएल व सीएनआई चर्च में विशेष आराधना आयोजित की गई। विश्वासियों ने प्रभु येसु को याद कर उनके उपदेशों को जीवन में अपनाने का संकल्प लिया। आरसी चर्च में दोपहर ढाई बजे से हुए समारोह में प्रभु येसु को क्रूस पर लटकाए जाने का जीवंत चित्रण किया गया। अंकित बोदरा प्रभु येसु तथा अनासतासिया तिडू ने माता मरियम का पाठ किया। इससे पूर्व प्रभु येसु की याद में सामूहिक मिस्सा व आराधना की गई। इसमें बड़ी संख्या में विश्वासियों ने भाग लिया। सामूहिक मिस्सा व अराधना की अगुवाई बिशप विनय कंडुलना ने की। बिशप ने अपने संदेश में प्रभु के जीवन वृतांत पर प्रकाश डाला। कहा कि गुड फ्राइडे तभी सार्थक होगा, जब हम ख्रीस्त की तरह अपने जीवन से दूसरों को खुशी देंगे। इसके अलावा फादर विशु बेंजामिन, फादर वेनेदिक बारला, फादर अगुस्तीन कुजूर, फादर हीरालाल हुनी पूर्ति आदि ने अपने संदेशों से लोगों को जागृत करने का प्रयास किया।

इसके बाद क्रूस रास्ता, चुमावन, दुख भोग की कथा आयोजित की गई। बाद में भूषण मिंज की कोयर टीम ने भजन पेश किए। आयोजन को सफल बनाने में फ्रांसिस जेवियर बोदरा, अनमोल प्रकाश सुरीन, पीटर मुंडू, मारकूश, सिस्टर बेला, एडिथ तोपनो, प्रेमलता केरकेट्टा, मेलानी सांगा व प्रभा तोपनो आदि ने सहयोग किया। उधर, कदमा स्थित जीईएल चर्च में और मार्टिन बंगला स्थित सीएनआई चर्च में गुड फ्राइडे श्रद्धा के साथ मनाया गया। मौके पर इन दोनों चर्चों मेंं मिस्सा समेत कई अनुष्ठान किए गए। रनिया के जीईएल, सीएनआई व आरसी चर्च में भी गुड फ्राइडे श्रद्धा के साथ मनाया गया। तोरपा व मुरहू में भी गुड फ्राइडे श्रद्धा के साथ मनाया गया। शनिवार की रात को चर्चों में पास्का जागरण एवं रविवार को ईस्टर मनाया जाएगा।

खंूटी में प्रभु येसु चुमावन करते बिशप विनय कंडुलना।

खलारी में युवक येसु की ओर से क्रूस को ढोकर 14 स्थानों पर ले गए

खलारी चर्च में क्रूस यात्रा का जीवंत प्रस्तुति देते मसीसी।

खलारी| शांतिनगर कैथोलिक चर्च में गुड फ्राइडे के अवसर पर मसीही समुदाय के लोगों ने क्रूस यात्रा निकाला। शुरुआत में युवाओं ने प्रभु येसु की ओर से क्रूस को ढोकर 14 स्थानों पर ले जाने की क्रूस यात्रा और प्रभु येसु को सूली पर चढ़ाए जाने की घटना को सांकेतिक रूप में प्रस्तुत करते हुए जीवंत कर दिया। इस दौरान बारी-बारी से 14 स्थानों पर अराधना व स्तुति की गई। इसके बाद फादर सुनीत बाखला, फादर जुलियानुस एक्का द्वारा चर्च में मिस्सा-बलिदान पूजा कराया गया। फादर जुलियानुस एक्का ने कहा कि प्रभु येसु ने मानव जाति के पापों की क्षमा लिए पिता परमेश्वर को अपने प्राणों का बलिदान चढ़ाया। ईश्वर ने हमारे सामने जीवन या मृत्यु, स्वर्ग या नरक, ईश्वर या शैतान को चुनने के लिये रखा है। जब हम ईश्वर नियमों का पालन करते हुए जीवन बिताते हैं तो हम जीवन और स्वर्ग का चुनाव करते हैं। जब हम फिर से पाप का रास्ता अपनाते हैं तो मृत्यु और नरक का चयन करते हैं। यह हम पर है कि जीवन का चुनाव करते हैं अथवा मृत्यु का। गुड फ्राइडे हमें यही संदेश देता है कि हम जीवन का चुनाव करें पर वर्तमान में हम मृत्यु का चुनाव करने में व्यस्त हैं। प्रभु येसु ने क्रूस पर से यही संदेश दिया कि हम भी एक-दूसरे को क्षमा करना सीखें। मौके पर सिस्टर जयंती, सिस्टर लुसिया, सिस्टर नेली, सी कुजूर, बबलू किस्कू, ज्ञान कुजूर, अनुरंजन तिग्गा, इनोसेंट कुजूर, अमित टोप्पो, उजाला लकड़ा, प्रकाश कुजूर, पारसनाथ उरांव, जाॅर्ज कुजूर, मरियानुस किंडो, एडलीन कुजूर, नरेश करमाली, रोबिन एक्का, बेंजामिन खलखो आदि उपस्थित थे।

पवित्र बाईबल की कहानियां सुनाईं

तोरपा | गिरजाघरों में गुड फ्राइडे पर पवित्र मिस्सा हुआ। आरसी चर्च में दोपहर बाद पवित्र बाईबल का पाठ किया गया। पल्ली पुरोहित विलियम तोपनो ने अपने संदेश में बाईबल की कई कहानियां सुनाई। फादर सुधीर तोपनो ने मसीही अनुयायियों को आशीष दी। फादर सुधीर ने सभी को अच्छा काम करने की शिक्षा दी। कहा कि हम सभी को अच्छा काम करना चाहिए। कार्यक्रम के दौरान फादर अरविंद, फादर फ्रांसिस, फादर जेम्स, फादर अर्मित, डिक्कन, लुईस, सिस्टर मारीयालिना, सिस्टर अलमा बिलुंग व सिस्टर उर्मिला आदि थीं।

तोरपा में गुड फ्राईडे पर प्रार्थना करतीं मसीही विश्वासी।

प्रभु येसु को क्रूस पर चढ़ाने का दृश्य प्रस्तुत करते युवक।