• Hindi News
  • Jharkhand News
  • Torpa
  • पुलिस के प्रयास के बावजूद जिले में बढ़ रहा अफीम की खेती का दायरा
--Advertisement--

पुलिस के प्रयास के बावजूद जिले में बढ़ रहा अफीम की खेती का दायरा

अफीम की खेती को लेकर इस वर्ष भी खूंटी जिला सुर्खियों में है, क्योंकि अफगानिस्तान की तरह नशे का पौधा उगाने में...

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2018, 03:55 AM IST
अफीम की खेती को लेकर इस वर्ष भी खूंटी जिला सुर्खियों में है, क्योंकि अफगानिस्तान की तरह नशे का पौधा उगाने में धीरे-धीरे पूरे जिले के लोग शामिल होते दिख रहे हैं। पहले जिन इलाकों में अफीम बनाने के लिए अवैध रूप से पोस्ता की खेती नहीं होती थी, वहां भी इस साल अफीम की फसल लहलहाती मिल रही है। पिछले साल तक रनिया और तोरपा प्रखंड अफीम की खेती से अछूता था। इस साल इन दोनों प्रखंडों में भी अफीम की फसल लहलहा रही है।

खूंटी पुलिस के लाख प्रयास और जागरूकता अभियान चलाए जाने के बावजूद जिले में साल दर साल अफीम की खेती का दायरा बढ़ता जा रहा है। पिछले वर्ष जिला पुलिस ने 1500 एकड़ से अधिक भूमि में लगी फसल नष्ट की थी। साथ ही, छह-सात किलो गिला अफीम भी जब्त करने में सफल हुई थी, लेकिन इस साल अभी तक 579 एकड़ में लगी अफीम की फसल नष्ट की जा चुकी है। बहरहाल, ग्रामीण खूंटी, मुरहू, अड़की के जंगली व सुदूर इलाकों में दो से तीन हजार एकड़ में नशे की खेती करके पुलिस के प्रयासों को धता बता दिए हैं। एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा के निर्देश पर जिला पुलिस पिछले 17 दिनों से लगातार अभियान चलाकर अफीम की फसल नष्ट करने में जुटी हुई है। एसपी ने आम लोगों से अफीम की खेती की अधिक से अधिक सूचना देने की अपील की है।

मुरहू के दो गांवों में 10 एकड़ में लगी फसल नष्ट की गई

मुरहू के कुंदी बरटोली में पोस्ता की फसल नष्ट करते जिला पुलिस के जवान।

एसपी बोले, पोस्ता की खेती के खिलाफ जारी रहेगा अभियान

अभियान के 17वें दिन बुधवार को मुरहू थाना क्षेत्र के कुंदी बरटोली और चारिद गांव के जंगली क्षेत्र में पुलिस ने करीब 10 एकड़ में लगी पोस्ता की फसल को नष्ट की गई है। इसके लिए एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने अवर निरीक्षक बमबम कुमार के नेतृत्व में छापेमारी टीम गठित की थी। टीम में एएसआई भरत पासवान समेत जैप व पुलिस के जवान शामिल थे। एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने कहा कि जिले में अफीम की खेती को रोकने के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है। जिला पुलिस का प्रयास है कि अफीम की खेती में लगे लोगों को गिफ्तार किया जाए, ताकि इस अवैध कारोबार में शामिल माफिया या आपराधिक संगठन से जुड़े लोगों का चेहरा सामने आ सके। पुलिस का अभियान लगातार जारी रहेगा।

17 दिनों में 579 एकड़ में लगी अफीम की फसल नष्ट

खूंटी पुलिस 17 दिनों के अंदर खूंटी, मुरहू, अड़की और रनिया थाना क्षेत्रों में 579 एकड़ खेत में लगी अफीम की फसल को नष्ट कर चुकी है। एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने बताया कि 8 व 11 जनवरी को अड़की के रायतोड़ांग व दुंदीडीह में 26.5 एकड़, हरदलामा और कंडीर में 21 एकड़ में लगी फसल नष्ट की गई है। 14 जनवरी को हरदलामा एवं कंडीर में 21 एकड़, 18 जनवरी को मुरहू के खटंगा में 40 एकड़, 19 जनवरी को हितूटोला एवं सारिदकेल में 31 एकड़, 23 जनवरी को चिचिगड़ा में 42 एकड़, 24 जनवरी को पीड़ीडीह और चालम में 35, 27 जनवरी को चालम में 45 एकड़, 29 जनवरी को खटंगा, रायतोड़ांग और चाराडीह में 35 एकड़, 30 जनवरी को जिलिंकेला में 45, 31 जनवरी को सारिदकेल और लुपुंगडीह में 32 एकड़, एक फरवरी को अनिडीह व कोटना में 75 एकड़, दो फरवरी को कुजरमा और वीरडीह में 17 एकड़ तथा बेलसियागढ़ में दो एकड़, चार फरवरी को तिलमा एवं तारूब में 32 एकड़, पांच फरवरी को सेंभुकेल, अनिगड़ा एवं रानी फॉल में 75 एकड़ तथा सात फरवरी को चालम में 15 एकड़ जमीन में लगी फसल नष्ट की गई है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..