• Home
  • Jharkhand News
  • Torpa
  • पुलिसगढ़ की महिलाएं पहुंची देवानगढ़ दियांकेल जनी शिकार उत्सव में जुटी महिलाओं की भारी भीड़
--Advertisement--

पुलिसगढ़ की महिलाएं पहुंची देवानगढ़ दियांकेल जनी शिकार उत्सव में जुटी महिलाओं की भारी भीड़

पड़हा राजा देवानगढ़ दियांकेल में जनी शिकार का आयोजन किया गया। देवानगढ़ मुंडा समाज के तत्वावधान में गुरुवार को...

Danik Bhaskar | Jun 01, 2018, 04:15 AM IST
पड़हा राजा देवानगढ़ दियांकेल में जनी शिकार का आयोजन किया गया। देवानगढ़ मुंडा समाज के तत्वावधान में गुरुवार को दियांकेल बगीचा में जनी शिकार का आयोजन हुआ। दो गांवों दियांकेल व डिगरी की महिलाओं का मिलन समारोह के दौरान भारी संख्या में महिलाएं शामिल हुई। पुरुष वेश में जनी शिकार उत्सव में पहुंची डिगरी की महिलाओं का पैर धुलाकर स्वागत किया गया। उत्सव के दौरान देवानगढ़ पड़हा राजा बिल्कन तोपनो व पुलिसगढ़ डिगरी के रोम्बा तोपनो सहित अन्य अतिथियों को पगड़ी पहना कर स्वागत किया। शिकार के रूप में डिगरी की महिलाओं को खस्सी दिया गया। सुबह डिगरी से निकली महिलाएं पुरे साज सज्जा में थी। महिलाएं पुरुष वेश में लाठी डंडों से लैस थे। दियांकेल गांव पहुंच महिलाएं ढोल, मांदर की थाप पर कई घंटे तक थिरकती रहीं। बिल्कन तोपनो ने जनी शिकार उत्सव का इतिहास में महत्व तथा प्रारंभिक दास्तान सुनाया। इतिहास के प्रसंग की व्याख्या करते उदय तोपनो ने बताया कि रोहतास किले व मुगलों की लड़ाई के दौरान महिलाओं की वीरगाथा है जनी शिकार उत्सव। उन्होंने कहा कि मुगलों ने एक बार नहीं, 12 बार रोहतास किले पर हमला किया था। इस वीर गाथा की स्मृति में ही हर 12 साल में अलग-अलग गांवों और पड़हा में जनी शिकार का आयोजन किया जाता रहा है। मौके पर देवानगढ़ के मुंडा राफेल तोपनो, पाहन राजा डुंडा तोपनो, वंती तोपनो, नेल्सन कंडूलना, आनंद तोपनो, विल्सन तोपनो, मुंडा तोपनो, सेजन महतो, लेतारेन तोपनो, सुनील साहू, सीमा तोपनो, माला देवी, तारा आदि थीं।