• Hindi News
  • Jharkhand
  • Washal
  • झारखंड की गौरवशाली धरोहर है सरहुल महोत्सव, इसे बचाना जरूरी
--Advertisement--

झारखंड की गौरवशाली धरोहर है सरहुल महोत्सव, इसे बचाना जरूरी

प्रखंड क्षेत्र के जोभिया गांव में रविवार को सरहुल पूजा महोत्सव का आयोजन किया गया। वहीं रात में छऊ नृत्य का आयोजन...

Dainik Bhaskar

Mar 06, 2018, 03:50 AM IST
झारखंड की गौरवशाली धरोहर है सरहुल महोत्सव, इसे बचाना जरूरी
प्रखंड क्षेत्र के जोभिया गांव में रविवार को सरहुल पूजा महोत्सव का आयोजन किया गया। वहीं रात में छऊ नृत्य का आयोजन किया गया। यहां मुख्य अतिथि के रूप मे गोला मध्य क्षेत्र के जिला पार्षद सदस्य ममता देवी, सांसद प्रतिनिधि कुन्टू बाबू व विशिष्ट अतिथि के रूप में युवा नेता सह समाजसेवी सेवी सुधीर कुमार मंगलेश ने संयुक्त रूप से फीता काट विधिवत उद्घाटन किया।

कार्यक्रम मे पश्चिम बंगाल से आए कलाकारों के द्वारा छऊ नृत्य पेश किया। वहीं रंगारंग झूमर नृत्य व गीत का भी आयोजन किया गया। इससे पूर्व सरना स्थल पर पूजा-अर्चना की गई। कार्यक्रम का संचालन संरक्षक मानिक पटेल ने किया। इस दौरान मुख्य अतिथि ममता देवी ने कहा कि सरहुल केवल एक पर्व ही नहीं है बल्कि झारखंड के गौरवशाली प्राकृतिक धरोहर का नाम है। यही धरोहर मानव-सभ्यता, संस्कृति एवं पर्यावरण का रीढ़ भी है। यह एक ऐतिहासिक पर्व है और इसकी परंपराएं बहुत भिन्न हैं। इस पर्व में गांव का पुजारी पाहन ही सारी परंपराएं संपन्न कराते हैं। इस पर्व को बचाने की जरूरत है। मौके पर अमित महतो, मुरली महतो, गौरीशंकर महतो, हेमंत चौधरी, डोमन नायक, चुमाकात महतो, सुरेश बेदिया, बासुदेव महतो, सरदार मांझी, मिथुन मांझी, उपेंद्र महतो, शिवा मांझी, सुरेश बेदिया, लालधारी मांझी, सोहन बेदिया, रामजी, छोटन महतो, मोहित पटेल, विकास कुमार, उत्तम कुमार बेदिया, मंजय बेदिया, सुंदर मांझी, मंगल महतो आदि मौजूद थे।

फीता काटकर छऊ नृत्य आयोजन का उद्घाटन करते मुख्य अतिथि।

X
झारखंड की गौरवशाली धरोहर है सरहुल महोत्सव, इसे बचाना जरूरी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..