वासल

  • Home
  • Jharkhand News
  • Washal
  • आरएसएस का विरोध मानसिक दिवालिएपन का परिचायक
--Advertisement--

आरएसएस का विरोध मानसिक दिवालिएपन का परिचायक

भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रो संजय प्रसाद सिंह ने प्रेस बयान कर कहा है कि आरएसएस व आरएसएस प्रमुख के...

Danik Bhaskar

Feb 15, 2018, 03:55 AM IST
भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रो संजय प्रसाद सिंह ने प्रेस बयान कर कहा है कि आरएसएस व आरएसएस प्रमुख के विचारों को तोड़-मरोड़ कर पेश करने के साथ विरोध करना ओछी मानसिकता का परिचायक है। विपक्षी राजनीतिक दल व कुछ लोग आरएसएस को नहीं जानते हैं। उसके स्थापना के उद्देश्य, कार्यों, रीति-नीति व कार्य प्रणाली को नहीं जानने वाले ही आरएसएस का विरोध कर रहे हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है। उन्होंने कहा है कि आरएसएस अपने लक्ष्य के अनुरूप समाज, राष्ट्र कार्यों की रचना करती है। व्यक्ति, चरित्र व राष्ट्र निर्माण के बल पर दिव्य भारत के गौरवशाली इतिहास के प्रति कटिबद्ध है। देश की आजादी, गोवा मुक्ति आंदोलन, जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा, पाक-चीन के साथ भारत के युद्ध में आरएसएस ने कार्य किए। वहीं, देश की प्राकृतिक आपदा, बाढ़, सूखा-अकाल आदि कठिन परिस्थितियों में आरएसएस के समाज व राष्ट्र की रक्षा में किए गए योगदान कभी भूला नहीं जा सकता है। लेकिन, विपक्षी राजनीतिक दलों को संघ के अच्छे कार्य व विचार रास नहीं आ रहा है।

Click to listen..