Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» In New Year Two Chandra And Three Surya Garhan

नए साल में होंगे दो चंद्रग्रहण व तीन सूर्यग्रहण, कई राशि होगी प्रभावित

नए साल में होंगे दो चंद्रग्रहण व तीन सूर्यग्रहण, कई राशि होगी प्रभावित

SUNIL CHOUDHARY | Last Modified - Dec 02, 2017, 12:45 PM IST

जोधपुर। आगामी नए वर्ष 2018 में दो चंद्रग्रहण व तीन सूर्य ग्रहण होंगे। पहला चंद्र ग्रहण ३१ जनवरी को दिखाई देगा, जबकि दूसरा चंद्र ग्रहण २७ जुलाई को होगा। वहीं तीन सूर्य ग्रहण भी होंगे, लेकिन यह भारत में नहीं दिखाई देंगे। इसके प्रभाव से कई राशि पर सकारात्मक तो कई पर नकारात्मक असर होगा। ऐसा होगा चंद्र ग्रहण...


- ज्योतिषियों ने बताया कि 31 जनवरी को पहला चंद्र ग्रहण पुष्य, अश्लेषा नक्षत्र एवं कर्क राशि में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को बुधवार के दिन होगा। ज्योतिष गणना के अनुसार ग्रहण की काली छाया शाम 5.18 बजे चंद्रमा को स्पर्श पर लेगी। इसके बाद 6.22 बजे खग्रास काल प्रारंभ होगा, जो ग्रहण के मोक्ष काल 8.41 बजे तक रहेगा। पूरा ग्रहण 3 घंटे 23 मिनट का रहेगा। ग्रहण भारत में मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, मेघालय व पश्चिम बंगाल में चंद्रोदय के बाद प्रारंभ होगा, जबकि देश के बाकी हिस्सों में चंद्रोदय से पहले प्रारंभ हो जाएगा। आस्ट्रेलिया, एशिया, उत्तरी अमेरिका में भी ग्रहण दिखाई देगा।


चन्द्र ग्रहण का यह होगा असर


- ज्योतिषियों के अनुसार ग्रहण के दौरान ज्यों ही ब्रह्मांड में घटना के साथ ऊर्जा की कमी होती है तो प्रत्येक जीव किसी न किसी प्रकार से प्रभावित होता है। बुधवार पूर्णिमा और कर्क राशि पर ग्रहण होने से अच्छी बारिश के योग बनेंगे। जनता जागरूक होगी और सत्ता में परिवर्तन संभव है। साधु, संतों, पंडित, शिक्षार्थी, बुजुर्ग व्यक्ति के लिए कष्टकारी रहेगा। सोना-चांदी, पीतल, गुड़, चीनी, गेहूं में तेजी का रूख होगा। वहीं अराजकता, भूकंप, जातिगत आंदोलन होने की आशंका बन रही है।


ऐसे होता है ग्रहण


- जब सूर्य और पृथ्वी के बीच में राहु व चन्द्रमा की छाया आ जाती है और जिस भाग में यह छाया पड़ती है उस जगह ऊर्जा का संचार कम होता है। ग्रहण के दौरान जो छाया मोटी होती है वह राहु तथा जो बारीक छाया होती है वह केतु कहलाती है। यानि छाया के असर से होने वाले दुष्प्रभाव को ग्रहण कहा जाता है।


यह है वैज्ञानिक दृष्टिकोण


- वैज्ञानिक दृष्टिकोण के अनुसार सूर्य 13 अंश (कुल 360 अंश में) जिस राशि में रहता है उसी राशि में 13 अंश से कम में राहु व केतु आ जाते हैं तो सूर्य एवं चंद्र ग्रहण होते है। यह 12 राशियों में एक राशि पर एक माह तक घूमता है। यह प्रतिदिन एक अंश बढ़ता है। भ्रमण चक्र 360 भागों में बांटा गया है। एक भाग एक अंश का रहता है। 30 अंश की एक राशि होती।


पहले ग्रहण का 12 राशि पर असर


- मेष- खर्च बढ़ेगा, वृषभ- सभी तरह से शुभ, मिथुन- हानि की आशंका, कर्क- तबीयत खराब, सिंह- वाद विवाद संभव, कन्या- अचानक धन लाभ, तुला- शुभ काम होंगे, वृश्चिक- मानहानि से बचें, धनु- मानसिक तनाव, मकर- सावधानी बरतें, कुंभ- शुभ योग बनेंगे, मीन- मन वाणी को शांत रखें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |
Web Title: ne saal mein hongae do chndrgarhn v teen surygarhn, kee raashi hogai prbhaavit
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×