--Advertisement--

घातक कथाएं / नाक की सूजन और शॉर्टकट सफलता की एक सॉलिड मुक्केबाज कथा...



intresting stories full of homour and satire
X
intresting stories full of homour and satire

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 04:58 PM IST

सीन शहर के पास की एक खदान का है जहां एक इंजीनियर और एक नेता टाइप मजदूर खड़े हैं। नेतानुमा बंदे का नाम खुदाईलाल "रसातल" है। खुदाईलाल के जीवन का सिद्धांत ही परम मक्कारी और शॉर्टकट है। ऊपर से बंदा इस बात पर भी भन्नाया रहता है कि मैं खुदाई कर-करके माटी हुआ जा रिया हूं, उधर ये सांड टाइप का इंजीनियर करता तो कुछ नहीं है, बस आर्डर ठोंकता रहता है। खुदाईलाल हमेशा बिना मेहनत किस्मत की बत्ती जलाने की स्कीम बनाता रहता। एक बार खुदाईलाल ने तय किया कि क्यों न सीधे इंजीनियर साब से ही जाना जाए कि आखिर उनके पास ऐसा कौन-सा चिराग था जिसकी बदौलत वो जिंदगी में इतनी रफ्तार से आगे बढ़कर यहां तक पहुंच गए।

 

तो साब, वो जा पहुंचा इंजीनियर नटबोल्ट सिंह "कॉरबोरेटर" के पास। नटबोल्टसिंह सिर्फ नाम का ही "कॉरबोरेटर" नहीं था। उसका दिमाग बेहद ज्वलनशील प्रवृति का था। सो जब खुदाईलाल उसके पास पहुंचा तो नटबोल्टसिंह ने तिरछी नज़रों से उसे देखकर बको वाले अंदाज में पलकें झपकाईं। खुदाईलाल ने मुंह खोला- हुजूर..! आप इतनी कम उमर में इतने बड़े आदमी कैसे बन गए। आपके पास ऐसा क्या है जो मेरे पास नहीं है..?

 

नटबोल्टसिंह ने कहा- एक अंतर है और बिना कोई ज्ञान दिए सीधे डेमो दिखा दिया। उसने अपनी हथेली खदान की दीवार पर उभरे एक पत्थर पर रखी और खुदाईलाल से उस पर जोर से मुक्का मारने के लिए कहा। जब खुदाईलाल ने मुक्का मारा तो नटबोल्टसिंह ने पत्थर से हाथ हटा लिया। फिर एक अंगुली दिमाग पर रखते हुए खुदाई से बोला- समझे...! हम दोनों के बीच किस बात का अंतर है? खुदाईलाल ने सिर हिलाया और खदान से सरपट बाहर आ गया। सामने से आते एक साथी पर प्रैक्टिकल करने की ठानी। उससे कहा- मैं जल्दी बड़ा आदमी बनने वाला हूं, तुम जरा डेमो देखो। फिर खुदाईलाल ने आसपास देखा, कहीं दीवार और पत्थर दिखाई नहीं दिया। बिना विचलित हुए खुदाईलाल ने अपनी नाक पर ही हाथ रख लिया और सामने वाले बंदे से कहा, अब जरा तुम एक मुक्का मेरी हथेली के ऊपर मारो...बाद में तो नाक की सूजन ने ही बताया इस तरह की सफलता कितनी दर्दनाक होती है।


मॉरल ऑफ द स्टोरीः जिंदगी में जब भी शॉर्टकट से आगे बढ़ना चाहेंगे तो ऐसे मंत्र जरूर पाएंगे जिनकी बदौलत किसी दिन खुद का ही एक मुक्का खुद के चेहरे पर खाएंगे, तब जिंदगी में मेहनत का महत्व समझ पाएंगे..! 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..