कटाक्ष / मशीनी नेता तैयार करने के लिए जरूरी 5 काम

X

  • आदमी हो कि रोबोट, वह या तो इंटेलिजेंस हो सकता है या पॉलिटिशियन
     

May 11, 2019, 05:10 PM IST

कुछ दिन पहले खबर आई थी कि न्यूजीलैंड में 'रोबोट पॉलिटिशियन' डेवलप किया गया है। इस रोबोट को डेवलप करने में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का यूज किया गया। इस वजह से इसका नाम रखा गया है "आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पॉलिटिशियन"। इसे इतना लायक बनाया जा रहा है कि यह हर चीज का प्रॉपर जवाब दे सके। उसे सोशल मीडिया का भी एक्सपोजर करवाया जा रहा है, ताकि वह अपना ज्ञान और जानकारी बढ़ा सके। 
क्या हमारे यहां की परिस्थितियों के अनुसार रोबोट पॉलिटिशियन तैयार किया जा सकता है? वैसे तो यहां रोबोट टाइप के कई नेता मिल जाएंगे, पर हमें वाकई ऐसा मशीनी नेता तैयार करना है तो इसके लिए ये 5 काम करने होंगे : 

 

1. सबसे पहले तो उसका नाम चेंज करना होगा। नया नाम होगा- 'आर्टिफीशियल अनइंटेलिजेंस पॉलिटिशियन।' पॉलिटिकल टाइप चीजों में इंटेलिजेंस जैसी चीज एक तरह से बैन होती है। आदमी हो कि रोबोट, वह या तो इंटेलिजेंस हो सकता है या पॉलिटिशियन।

 

2. इस रोबोट के अल्गोरिद््म और प्रोग्रामिंग में भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, जातिवाद और साम्प्रदायिकता जैसी चीजें डालनी होंगी। इसके बगैर यह राजनीतिक रोबोट किसी काम का नहीं होगा।

 

3. इसके सॉफ्टवेयर पर बहुत मेहनत करनी होगी। उसे इस तरह बनाना होगा कि ज्यादातर चीजों के तो वह जवाब ही नहीं दे। अगर जवाब दे ही दिया तो काहे का पॉलिटिशयन रोबोट। हां, उसे यह जरूर पता होना चाहिए कि बेमतलब की चीजों पर कब चिल्लाचोट करनी है।

 

4. समाज सेवा के नाम पर सेल्फ फंडिंग कैसे की जाती है या सीधे शब्दों में कहें तो पैसों की उगाही कैसे की जाती है, इसका स्पेशल सॉफ्टवेयर इसमें डालना पड़ेगा। नहीं तो कौन इसे नेता मानेगा?

 

5. न्यूजीलैंड का रोबोट सोशल मीडिया के जरिए अपना ज्ञान बढ़ा रहा है। हमारे यहां के रोबोट को नेताओं के बयान या ट्विीट पढ़वाने होंगे। अगर हमारे यहां इस तरह के रोबोट को इस बात की ट्रेनिंग अभी चुनावों के दौर में मिल जाएगी तो जिंदगी भर काम आएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना