इंटरव्यू जरा हटके / उस दिन का इंतजार जब केबीसी में प्याज के पकौड़े दिए जाएंगे

Onion prices humor continue to rule high
X
Onion prices humor continue to rule high

  • प्याज के साथ खास बातचीत

दैनिक भास्कर

Sep 28, 2019, 06:33 PM IST

प्रतीक गौतम. प्याज के दाम बढ़े तो रिपोर्टर घबराया। किचन में भागा तो आख़िरी प्याज नज़र आई। उसे पुचकारा और बातें शुरू की।

 

रिपोर्टर : तुम तो इतनी महंगी हो गई कि अब तुम्हें काटने में नहीं, खरीदने में आंसू आते हैं।
प्याज : ये बहुत पुरानी लाइन हो गई, नया कुछ ट्राई करो।

 

रिपोर्टर : तुम क्या ट्राई कर रही हो? इतने दाम क्यों बढ़ा लिए।
प्याज : तुम नहीं समझोगे, मेरी रेस डॉलर से है। मुझे उसके दाम से आगे निकलना है।

 

रिपोर्टर : डॉलर से आगे निकलकर क्या मिल जाएगा?
प्याज : फिर सब मिलियन-विलियन में बातें नहीं करेंगे, ओनियन की बातें करेंगे।

 

रिपोर्टर: ये तुम्हारा ओपिनियन है, जनता तो परेशान है।
प्याज : ये तो जनता की गलती है। अब गाड़ियां बिक नहीं रहीं, सब मंदी की बातें कर रहे थे। इकॉनोमी को बूस्ट देने के लिए मैंने अपने दाम बढ़ा दिए। गलत किया क्या?

 

रिपोर्टर : तुम्हारे दाम नहीं, भाव बढ़े हैं। क्या चाहती हो, कार की तरह तुम्हारे भी शो रूम हों?
प्याज : जैसे मेरे दाम हैं, मेरे लिए शो रूम नहीं, म्यूजियम लगेंगे।

 

रिपोर्टर : काफी ऊंचे-ऊंचे ख़्वाब हैं।
प्याज : दाम भी ऊंचे हैं, देखना कोहिनूर मेरे कारण लौटकर आएगा, अंग्रेजों की महारानी भी अपने ताज में प्याज लगाएंगी।

 

रिपोर्टर : और भविष्य में क्या देखने को मिलेगा?
प्याज : मैं तो बस उस दिन का इंतज़ार कर रही हूं, जब कौन बनेगा करोड़पति में पैसे की बजाय प्याज का पकौड़ा दिया जाएगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना