जापान / चोरी हुआ 83 लाख रुपए कीमत वाला 400 साल पुराना बोन्साई पेड़, मालिकों ने चोर को दी देखभाल की सलाह



400 years old bonsai trees were stolen Japanese owner couple appeal to thieves take good care of them
X
400 years old bonsai trees were stolen Japanese owner couple appeal to thieves take good care of them

  • शिंपाकु जुनिपर समेत सात बोन्साई पेड़ की चोरी हुई, मालिक कपल ने फेसबुक पर लिखा, हमने इसे बच्चों की तरह पाला

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 01:58 PM IST

लाइफस्टाइल डेस्क. जापान में 400 साल पुराने शिंपाकु जुनिपर समेत सात बोन्साई पेड़ चोरी होने के बाद मालिक ने चोरों को उनकी देखभाल को लेकर सलाह दी है। उनके मालिक कपल ने लिखा, हमने इन्हें बच्चों की तरह पाला है...कैसा महसूस कर रहे हैं यह बताने के लिए हमारे पास शब्द नहीं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन पौधों की कीमत ₹83 लाख है।
 

बगीचे की प्रदर्शनी के लिए रखे गए  थे 3 हजार पौधे

  1. टोक्यो के रहने वाले सेजी लिम्यूरा बोनसाई की देखभाल का काम करते हैं। पिछली पांच पीढ़ियों से घर का व्यवसाय यही रहा है। उनके मुताबिक, बगीचे से सात पेड़ों की चोरी हुई है। जो हमारे लिए पुश्तैनी खजाने से कम नहीं है। घटना के बाद सेजी की पत्नी ने फेसबुक पर चोरों से अपील करते हुए लिखा, ये पौधे हमारे बच्चे की तरह हैं। इनका ध्यान रखना।

  2. लिम्यूरा ने 3 हजार पौधों को 5 हजार स्क्वैयर मीटर के बगीचे में डिस्पले के लिए रखा था ताकि यहां आने वाले लोग बोनसाई की खूबसूरती से रूबरू हो सकें। बगीचा काफी प्रसिद्ध होने के कारण 400 साल पुराने बोनसाई को भी प्रदर्शनी का हिस्सा बनाया गया था। इसके लिए किसी तरह की सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए  थे। 

  3. सेजी ने चोरी की शिकायत पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई है। लिम्यूरा का कहना है कि मैं उन पौधों कभी बेचना तक नहीं चाहता था। मैं ऐसे चोरों से नफरत करती हूं लेकिन उनसे एक बात कहना चाहती हूं कि पौधों को समय पर पानी जरूर दें और उनकी देखभाल करें। अगर वो पौधे नहीं रहे तो मुझे बहुत दु:ख होगा। उनकी देखभाल की जाए तो वो हमेशा रहेंगे भले हम जिंदा रहें या न रहें। 

  4. क्या होता है बोनसाई पौधा

    ''

     

    जापानी भाषा में बोनसाई का मतलब है बौने पौधे। इन्हें तैयार और देखभाल करने की तकनीक भी खास होती है। जापानी तकनीक से पौधों को छोटा और आकर्षक रूप दिया जाता है। इस कला तहत पौधों को सुन्दर आकार देना, सींचने की खास विधि तथा एक गमले से निकालकर दूसरे गमले में रोपित करने की विधियां काफी अलग होती हैं। बोनसाई पौधों को गमले में इस प्रकार उगाया जाता है कि उनका प्राकृतिक रूप तो बना रहे लेकिन वे आकार में बौने रह जाएं। इसे पूरे घर में कहीं भी रखा जा सकता है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना