2 दिन की ट्रिप / पहाड़, झील और घने जंगलों के बीच जवानों की कुर्बानी से रूबरू कराता है लैंसडाउन

Dainik Bhaskar

May 15, 2019, 07:43 PM IST


enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism
enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism
enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism
enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism
X
enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism
enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism
enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism
enjoy forest lake and bravery stories of freedom fighter in Lansdowne Uttarakhand Tourism

  • प्राकृतिक खूबसूरती से घिरे लैंसडाउन को 1887 में अंग्रेजों ने बसाया था, इसका वास्तविक नाम कालूडांडा है

लाइफस्टाइल डेस्क. बहुत कम टूरिस्ट प्लेसेस ऐसे हैं जहां कम समय में एक ही जगह पर प्रकृति की हर खूबसूरती से रूबरू हुआ जा सके, लैंसडाउन उनमें से ही एक है। यह उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले का एक छावनी शहर है। यहां झील, पर्वत, बोटिंग, 100 से अधिक पुरानी विरासत और ट्रैकिंग का आनंद उठाया जा सकता है। ज्यादातर टूरिस्ट प्लेसेस आसपास हैं। जानिए यह जगह क्यों है खास….

5 कारण : क्यों जाएं लैंसडाउन

  1. गढ़वाल राइफल्स और रेजिमेंट म्यूजियम : स्वतंत्रता आंदोलन का गवाह

    ''

     

    प्राकृतिक खूबसूरती से घिरे लैंसडाउन को 1887 में अंग्रेजों ने बसाया था। उस दौर में वायसराय ऑफ इंडिया लॉर्ड लैंसडाउन के नाम पर ही इसका नाम रखा गया। इसका वास्तविक नाम कालूडांडा है। यह क्षेत्र सेना के आधीन है और गढ़वाल राइफल्स सेना का गढ़ है। यहां गढ़वाल राइफल्स और रेजिमेंट म्यूजियम है। सेना से जुड़ी कई चीजों झलक यहां मिलती है। म्यूजियम में फोटोग्राफी करना मना है। 

  2. भुल्ला ताल : जवानों को समर्पित खूबसूरत झील

    ''

     

    गढ़वाली में भुल्ला का मतलब है छोटा भाई। यह ताल गढ़वाल के उन जवानों को समर्पित है जिन्होंने सुरक्षा के लिए जान कुर्बान की। यहां बोटिंग और पैडिंग का आनंद उठाया जा सकता है। चिल्ड्रेन पार्क और बांस के घर और झरने यहां की खूबसूरती को बढ़ाते हैं।

  3. टिप एन टॉप: सूर्योदय देखने के लिए लगती है भीड़

    ''

     

    यह थोड़ी ऊंचाई पर है अगर आप दूर-दूर तक फैले गांवों को और पर्वतों को देखना चाहते हैं तो टिन एन टॉप बेहतरीन जगह है। खासकर फोटोग्राफी के शौकीनों के लिए पहड़ों को पीछे उगते सूरत को कैप्चर करना यादगार अनुभव रहता है। 

  4. ताड़केश्वर मंदिर और  भैरवगढ़ी : घने जंगलों के बीच ट्रैकिंग कर पहुंचे भोले के द्वार

    ''

     

    जंगलों के बीच ट्र्रैकिंग करने के शौकीन हैं तो लैंसडाउन भैरवगढ़ी और ताड़केश्वर मंदिर का रास्ता चुन सकते हैं। मंदिर का रास्ता चीड़, देवदार के घनों जंगलों के बीच हो होकर जाता है। यह लैंसटाउन से 35 किलोमीटर की दूरी पर है। यह भगवान शिव का मंदिर है। इसके अलावा यहां जल्पादेवी, कालेश्वर, कंडोलिया और कंवाश्रम मंदिर भी जा सकते हैं।

  5. लवर्स लेन : रोमांटिक डेट के लिए परफेक्ट डेस्टिनेशन

    ''

     

    लवर्स लेन लैंसडाउन का सबसे पॉप्युलर डेस्टिनेशन है। इसे खासतौर पर ट्रैकिंग और प्राकृतिक खूबसूरती के लिए जाना जाता है। इस रास्ते में एक तरफ हिमालय की शृंखलाएं दूसरी तरफ देवदार के पेड़ हैं। शांत और खूबसूरत होने के कारण यहां ज्यादातर कपल जाना पसंद करते हैं।

टूर गाइड

    • कब जाएं : यहां जाने के लिए सबसे अच्छा समय मार्च से जून के बीच होता है। इस दौरान यहां न तो बहुत अधिक सर्दी न तो गर्मी होती है।
    • कितने दिन का टूर प्लान करें :  अगर आपके पास 2 दिन हैं हैं तो यहां का रुख किया जा सकता है। ज्यादातर टूरिस्ट प्लेसेस आसपास होने के कारण कम समय में यहां की खूबसूरती से रूबरू हुआ जा सकता है।
    • कैसे पहुंचे : दिल्ली से लैंसडाउन के बीच दूरी 250 किलोमीटर है। सफर को 6 घंटे पूरा किया जा सकता है। चाहें तो बाइक से भी यहां पहुंच सकते हैं। ट्रेन से जा रहे हैं तो यहां पहुंचने का सबसे नजदीक स्टेशन देहरादून है।  लैंसडाउन देहरादून से 81 किलोमीटर की दूरी पर है। फ्लाइट से जा रहे हैं तो नजदीकी एयरपोर्ट जौली ग्रांट है, यहां से लैंसडाउन के लिए बस और टैक्सी आसानी से उपलब्ध रहती हैं।
    • क्या सावधानी बरतें: अपने साथ कैप या स्कार्फ साथ रखें। फर्स्ट एड किट, रेग्युलर लेने वाली दवाएं, बैंडेज, थर्मामीटर, गर्म कपड़े, एंटीबायोटिक्स और एंटीसेप्टिक क्रीम जरूर रखें। कुछ हिस्सों में गर्मी बढ़ने तापमान बढ़ जाता है, इससे स्किन को बचाने के लिए सनस्क्रीन साथ रखें। 

COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543