1400 रुपए की नई बार्बी डॉल को मिले प्रोथेस्टिक पैर और व्हीलचेयर, इससे दिव्यांग मोटिवेट होंगे

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • अमेरिकन टॉय कंपनी मटेल के मुताबिक, आधिकारिक तौर पर जून से मार्केट में उपलब्ध होगी नई बार्बी डॉल

लाइफस्टाइल डेस्क. दिव्यांग भी खूबसूरत दिख सकते हैं, इसी सोच के साथ अमेरिकन टॉय कंपनी मटेल ने बार्बी को कृत्रिम (प्रोस्थेटिक) पैर और व्हीलचेयर के साथ पेश किया है। आधिकारिक तौर पर बाजार में यह जून से उपलब्ध होगी। यह कंपनी की 2019 बॉर्बी फैशनिस्टा लाइन का हिस्सा होगी। इसका उद्देश्य बच्चों को खूबसूरती और उसके अलग-अलग रूपों से रूबरू कराना है।

1) दिव्यांग कार्यकर्ता की मदद से तैयार की गई नई डॉल

 

अमेरिकन टॉय कंपनी मटेल ने जॉर्डन रीव्स नाम की एक 13 वर्षीय दिव्यांग कार्यकर्ता के साथ मिलकर इसे तैयार किया है। रीव्स जब पैदा हुई थीं तो उनका बायां हाथ कोहनी तक ही था। मतलब उनके बाएं हाथ में कलाई और उंगलियां नहीं थीं। प्रोस्थेटिक अंगों वाली डॉल्स से उसके अंगों को अलग किया जा सकेगा। ऐसा इसलिए ताकि प्रोस्थेटिक अंगों को हटाकर खेलने के एक्सपीरियंस को और अधिक रियलिस्टिक बनाया जा सके। साथ ही ऐसे बच्चों को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया जा सके।

इसके अलावा खिलौने बनाने वाली कंपनी ने यूसीएलए मटेल चिल्ड्रंस हॉस्पिटल और व्हीलचेयर एक्सपर्ट्स के साथ मिलकर व्हीलचेयर डिजाइन करने के लिए भी काम किया है। कंपनी का कहना है कि बार्बी के प्रशंसकों ने ऐसी डॉल तैयार करने का अनुरोध किया था। मटेल ने एक बयान में कहा कि शारीरिक रूप से स्थायी दिव्यांग जिस तरह की व्हीलचेयर का इस्तेमाल करते हैं ठीक उसी तरह की व्हीलचेयर बॉर्बी के लिए डिजाइन की गई है। यही नहीं कंपनी व्हीलचेयर के साथ बार्बी ड्रीमहाउस को सपोर्ट करने वाला एक रैंप भी बनाएगी।

व्हीलचेयर वाली बॉर्बी में मनुष्यों जैसे शारीरिक जोड़ होंगे, जो उसे आसानी से बैठने में मदद करेंगे। गुड़िया, व्हीलचेयर और ड्रीमहाउस कंपैटिबल रैंप के लिए ग्राहकों को करीब 1400 रुपए खर्च करने होंगे। प्रोथेस्टिक पैर वाली गुड़िया की कीमत 700 रुपए होगी। कुछ साल पहले मटेल ने अलग-अलग स्किन टोन, आंख के रंग, बालों के रंग, शारीरिक बनावट और साइज वाली डॉल्स के लिए फैशिनिस्टा लाइन की शुरुआत की थी।

नेशनल डिसएबिलिटी राइट्स नेटवर्क के एग्सीक्यूटिव डायरेक्टर कर्ट डेकर ने कहा कि बार्बी जैसे एक बड़े आइकन की मदद से यह दिखाया जा सकता है कि समाज में विभिन्न प्रकार के लोग रहते हैं, जो आकर्षक होते हैं और बच्चे उनके साथ खेलना चाहते हैं। डेकर ने कहा- मुझे उम्मीद है कि नई गुड़िया दिव्यांगों के कलंक को दूर कर बच्चों को यह समझा सकती है कि उनके आसपास मौजूद ऐसे लोग भी आम लोगों जैसे ही हैं।

दिव्यांग लोगों के लिए काम करने वाले समूह रिस्पेक्ट एबिलिटी के अध्यक्ष जेनिफर लेज्लो मिजराही के अनुसार, दुनिया में 100 करोड़ से ज्यादा लोग दिव्यांग हैं। वे कहते हैं कि हम खुद को संस्कृति, खिलौने, उत्पादों और आसपास की हर चीज में देखना चाहते हैं।

मटेल ने सोमवार को ऐलान किया कि 2019 के फैशनिस्टा की लाइन में बार्बी लट वाले बालों के अलावा अधिक रियलिस्टिक बॉडी के साथ आएगी। 2017 में मटेल ने पहली पहली बार हिजाब पहनने वाली बार्बी को पेश किया था। कंपनी अब समलैंगिक शादी सेट वाली बार्बी बनाने पर विचार कर रही है।