आठवां अजूबा / चट्टानी ज्वालामुखी से निकले लावा से बना था श्रीलंका का सिगरिया रॉक



X

  • हजार साल पुराना टूरिस्ट डेस्टिनेशन है सिगरिया रॉक, यहां मिलते हैं श्रीलंका की संस्कृति और इतिहास के प्रमाण 

Jun 06, 2019, 08:16 PM IST

लाइफस्टाइल डेस्क .पड़ोसी देश श्रीलंका टूरिज्म के लिहाज से बेहतरीन डेस्टिनेशन है। यहां का सबसे खास टूरिस्ट स्पॉट है सिगरिया रॉक। इसे पांचवी सदी में बनाया गया था और लोग आठवां अजूबा मानते हैं। यह श्रीलंका का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला पर्यटन स्थल है। अगर ऐतिहासिक स्थलों को देखना पसंद करते हैं तो यहां जा सकते हैं। जानिए, यह टूरिस्ट डेस्टिनेशन में क्या है खास

तीसरी शताब्दी में यह जगह मठ के लिए जानी जाती थी

  1. ऐतिहासिक और पुरातात्विक महत्व के कारण इसे देखने के लिए दुनियाभर से पर्यटक यहां आते हैं। यह चट्टानी पठार ज्वालामुखी से निकले लावा से बना है। यहां के नजारे मनुष्य और प्रकृति के बीच एक अनूठे संबंधों को दर्शाते हैं। तीसरी शताब्दी से यह जगह मठ के लिए जानी जाती रही।  यहां सीढ़ीदार बगीचे, झीलें और तालाब भी हैं। यहां के महल और किले के परिसर को प्राचीन शहरी नियोजन के बेहतरीन उदाहरणों में से एक माना जाता है।

     

    ''

     

  2. सिगरिया यानी लॉयन रॉक

    राजा कश्यप ने 5वीं शताब्दी में यहां रॉयल रेसीडेंस बनने का निर्णय लिया था, लेकिन राजा की मृत्यु के बाद यह जगह फिर बौद्ध मठ के रूप में 14वीं शताब्दी तक ख्याति प्राप्त करती रही। इसका प्रवेशद्वार चट्टान के उत्तरी हिस्से से है। इस चट्टान को इस तरह डिजाइन किया गया कि यह स्टोन लॉयन की तरह दिखाई देती है। हालांकि लॉयननुमा चट्टान का निचला हिस्सा यानी पैर वैसे के वैसे ही हैं, लेकिन ऊपरी संरचना क्षतिग्रस्त कर दी गई थी। इसका नाम सिगरिया पड़ गया, जिसका अर्थ होता है लॉयन रॉक।

     

    ''

     

  3. मिरर वॉल और भित्तिचित्रों से ढकी रॉक

    सिगरिया की पश्चिमी दीवार भित्तिचित्रों से ढकी थी, जो कश्यप के शासनकाल के दौरान बनी थी। इनमें से 18 भित्ति चित्र आज तक देखे जा सकते हैं। इन चित्रों में नारी सौंदर्य से जुड़े विषय हैं। सिगरिया की सबसे खासियत इसकी मिरर वॉल है। प्राचीन समय में इसकी ऐसी देखभाल की जाती थी कि राजा इसमें अपना प्रतिबिंब देख सकते थे। मिरर वॉल पर सिगिरिया में आने लोगों के लिए लिखे गए शिलालेखों और कविताओं के साथ चित्रित किया गया है। सबसे प्राचीन शिलालेख 8वीं शताब्दी के हैं। 

     

    ''


     

  4. एक हजार साल पुराना पर्यटन स्थल

    शिलालेख बताते हैं कि सिगरिया एक हजार साल पहले भी पर्यटन स्थल था। यहां की इमारतों और उद्यानों से पता चलता है कि इस अद्भुत वास्तुशिल्प स्मारक के रचनाकारों ने अद्वितीय और रचनात्मक तकनीकी कौशल का प्रयोग किया था।

     

    ''


     

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना