पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समुद्र में तैरना पेट और स्किन इंफेक्शन का कारण, 24 घंटे बाद तक शरीर में मौजूद रहती हैं समुद्री बैक्टीरिया

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी ने की रिसर्च, शोधकर्ताओं ने कहा - समुद्र में पाई जाने वाली वायब्रियो बैक्टीरिया स्किन के लिए खतरनाक
  • सी-फूड से होने वाले इंफेक्शन का कारण यही बैक्टीरिया है

लाइफस्टाइल डेस्क. समुद्र में तैरना कई बीमारियों की वजह बन सकता है। यह बात कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च में सामने आई है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, समुद्र में तैरने के 24 घंटे बाद तक इसके बैक्टीरिया शरीर पर मौजूद रहते हैं। कुछ लोगों में ये बैक्टीरिया ज्यादा वक्त तक भी चिपके रहते हैं। ये स्किन, पेट और सांस से जुड़े संक्रमण का करण बनते हैं।

1) समुद्री बैक्टीरिया त्वचा के माइक्रोबियोम बदल देते हैं

शोधकर्ता मेरिसा नीलसन के मुताबिक, रिसर्च में हमें ऐसे समुद्री बैक्टीरिया मिले हैं जो संक्रमण की वजह बनते हैं। यह त्वचा के माइक्रोबियोम को बदल देते हैं। माइक्रोबियोम ऐसे सूक्ष्म जीव होते हैं जो स्किन को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। माइक्रोबियोम में बदलाव के कारण समुद्री बैक्टीरिया से संक्रमण का खतरा और भी बढ़ जाता है जो बाद में बड़ी बीमारियों का कारण बनता है। शोध के मुताबिक, समुद्री पानी में मौजूद बैक्टीरिया पेट, सांस, कान और स्किन में संक्रमण की वजह हैं।

  • समुद्री बैक्टीरिया को समझने के लिए शोधकर्ताओं ने नौ लोगों को रिसर्च में शामिल किया। इन नौ लोगों ने सनस्क्रीन का इस्तेमाल नहीं किया और 12 घंटों से नहीं नहाया था। इसके अलावा इन लोगों ने पिछले 6 महीने में किसी तरह की एंटीबायोटिक भी नहीं ली थी। 
  • पानी में उतरने से पहले इनके शरीर से बैक्टीरिया के नमूने लिए गए। समुद्र में 10 मिनट तैरने के बाद अगले 6 और 24 घंटों में दो बार जांच की गई। इसमें पाया गया कि तैरने से पहले सभी में अलग-अलग तरह की बैक्टीरिया थे लेकिन तैरने के बाद सभी की स्किन पर एक जैसे जीवाणु थे। जो पहले वाले जीवाणु की तुलना में काफी अलग थे। 
  • तैरने के बाद इनमें वायब्रियो नाम का बैक्टीरिया पाया गया। जो रॉड के आकार का होता है। इसकी कई प्रजाति अधपके समुद्री खाने में पाई जाती है। सी-फूड से होने वाले इंफेक्शन का कारण यही बैक्टीरिया है। शोध के मुताबिक, यह बैक्टीरिया समुद्र के मुकाबले स्किन पर तेजी बढ़ता है और संक्रमित करता है।

शोधकर्ता मेरिसा कहती हैं कि जब हम तैरते हैं तो सामान्य बैक्टीरिया शरीर से निकल जाते हैं जबकि समुद्री बैक्टीरिया शरीर में अपना घर बना लेते हैं। पिछली कई रिसर्च में समुद्री पानी में स्विमिंग और संक्रमण के बीच एक कनेक्शन पाया गया है। ऐसे मामलों का बड़ा कारण है गंदे पानी को समुद्र तटों पर बहाया जाना।