विज्ञापन

वैलेंटाइन स्पेशल / एक बेजान लड़की से खूबसूरत फूल बनने की कहानी, ऐसे खिला पहला गुलाब

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 01:34 PM IST


valentine day special rose day and history of first rose when first rose bloomed in the world
valentine day special rose day and history of first rose when first rose bloomed in the world
X
valentine day special rose day and history of first rose when first rose bloomed in the world
valentine day special rose day and history of first rose when first rose bloomed in the world
  • comment

  • महारानी क्लियोपेट्रा के महल के आंगन गुलाब की नाजुक पंखुड़ियों के कालीन से ढंके रहते थे
  • कन्फ्यूशियस की लाइब्रेरी में 600 से ज्यादा किताबें सिर्फ गुलाबों की देखभाल की जानकारी से संबंधित थीं

लाइफस्टाइल डेस्क. पुरातत्वविदों को गुलाब के 30 लाख साल पुराने अवशेष मिल चुके हैं। ये मानव सभ्यता से भी बहुत पहले से गुलाब का अस्तित्व होने की पुष्टि करते हैं। गुलाब को प्रेम के प्रतीक के तौर पर माना गया है। वैलेंटाइन वीक की शुरुआत हो चुकी है। इस मौके पर जानिए दुनिया का पहला गुलाब खिलने की कहानी और इससे जुड़े किस्से...

धरती का सबसे सुंदर फूल बना गुलाब

  1. ''

     

    मान्यता है कि प्यार के प्रतीक इस फूल की रचना यूनान की देवी ‘क्लॉरिस' ने की। कहानी कुछ इस तरह है- फूलों की देवी ‘क्लॉरिस' ने एक दिन एक सुंदर युवा लड़की का शव देखा। ‘क्लॉरिस' ने प्यार की देवी ‘एफ्रोडाइट' की मदद ली। उसने उसे और सुंदरता दी। शराब की देवी ‘डायनोसिस' ने इस लड़की को मीठी खुशबू से सराबोर कर दिया। तीनों देवियों ने मिल कर उसे आकर्षण, चमक और आनंद से भरपूर बना दिया। तभी पश्चिमी हवा ‘जेफिर’ बहने लगी, जिसने बादलों को परे धकेल दिया ताकि सूरज देव चमक सकें। तब यह लड़की फूल में बदल गई और इस तरह गुलाब इस धरती का सबसे सुंदर फूल बन गया। 

  2. गुलाब के आकर्षण में बंधे हैं हर देश, हर जाति के लोग

    ''

     

    गुलाब के जन्म की यही अकेली कहानी नहीं है। हर देश और जाति के लोग इसके आकर्षण में बंधे हैं। गुलाब की जन्मभूमि बनने को लेकर सबका अपना-अपना दावा है। यूनान, रोम, बेबिलोनिया और चीन आदि तमाम प्राचीन सभ्यताओं का गुलाब पर दावा है। पारसियों का कहना है कि पहला गुलाब गुलिस्तान के खूबसूरत प्रदेश में ही उगाया गया था। 

  3. अरब के लोगों का दावा है कि जहां-जहां पैगम्बर के पसीने की बूंदें गिरी, वहां-वहां गुलाब के फूल खिलते गए। ईसाई धर्म के अनुसार गुलाब पहले पहल ईव के बगीचे में उगा था, जिसमें कांटे बाद में आए थे। 

  4. ''

     

    रोम और यूनान में गुलाब को धार्मिक, चिकित्सकीय और मिथकीय महत्व भी मिला तो कवि सैफो ने गुलाब को ‘फूलों की रानी' बताया। रवीन्द्रनाथ टैगोर गुलाब को जिंदगी के लिए इस कदर जरूरी मानते थे कि उन्होंने कहा था, ‘‘अगर तुम्हारे पास दो रोटी हैं तो उनमें से एक को बेचकर गुलाब ले आओ।'’ पंडित जवाहरलाल नेहरू ने उसे अपने पहनावे में इस तरह शामिल कर लिया कि गुलाब को और उन्हें अलग कर देखा ही नहीं जा सकता।

  5. गुलाब का चित्र बनाना कठिन

    गुलाब की दीवानगी के किस्से हजारों हैं। अमेरिका पिछले कई साल से जून माह को ‘रोज़ मंथ' के रूप में मना रहा है। महारानी क्लियोपेट्रा के महल के आंगन गुलाब की नाजुक पंखुड़ियों के कालीन से ढंके रहते थे। वहीं, कन्फ्युशियस की लाइब्रेरी में 600 से ज्यादा किताबें सिर्फ गुलाबों की देखभाल की जानकारी से संबंधित थीं।

  6. ''

     

    अपने समय के प्रसिद्ध चित्रकार हेनरी मातीस के अनुसार ‘एक सच्चे चित्रकार के लिए सबसे मुश्किल है एक गुलाब के फूल का चित्र बनाना, क्योंकि उसे बनाने से पहले उसे उन तमाम गुलाबों को भूल जाना होगा, जो उससे पहले बनाए जा चुके हैं।' 

  7. अमेरिकन कवयित्री गेटुर्ड स्टीन गुलाब की सुंदरता में इस कदर डूब गईं कि उन्होंने कहा, ‘‘एक गुलाब सिर्फ और सिर्फ एक गुलाब है।'’ 

  8. ''

     

    नील गुंग ने कहा है किप्यार एक गुलाब है। इसे तोड़ो मत। यह तभी पनपता है जब टहनी पर हो, कुछ कांटों के बीच। आपको यह अहसास भी होगा कि आप उसे खो रहे हैं, लेकिन जब आप उस पर अधिकार जताने लगते हैं आप अपने प्यार को खो चुके होते हैं।

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें