शावर में ही क्यों होनी चाहिए स्किन केयर की शुरुआत

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

लाइफ स्टाइल डेस्क.  लड़कियां चाहती है उनकी स्किन हमेशा ग्लो करती रहे इसके लिए वे अच्छे ब्रांड के ब्यूटी प्रोड्क्ट्स, हेल्दी फूड, एक्सरसाइज को अपनाती हैं। घर में भी वे अपने फेस और हाथ-पेरों की क्लिनिंग करती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं स्किन केयर के लिए शावर से बेहतर जगह नहीं है। जी हां... आज स्किन एंड ब्यूटी एक्सपर्ट विशाल मुद्गिल बताने जा रहे हैं क्यों शावर में ही होनी चाहिए स्किन केयर की शुरुआत...

1) शोध बताते हैं स्किन केयर के लिए शावर से बेहतर जगह नहीं है

यदि आप शावर लेने वाले हैं तो स्किन की क्लेंजिंग वहीं की जा सकती है। रात को सोने से पहले शावर लेते हैं तो वहीं मेकअप भी निकाला जा सकता है। हल्के गुनगुने पानी में स्किन की अंदर तक सफाई हो जाती है। शावर के तुरंत बाद ही नाइट क्रीम और सिरम लगाने से यह स्किन द्वारा अच्छी तरह सोक लिए जाते हैं।

सेंसिटिव या ड्राय स्किन है, तो ऐसे प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करने चाहिए जिनमें एलोवेरा या विटामिन बी5 हो। ये स्किन केलिए बेहद सुरक्षित होते हैं। शावर में इन्हें इस्तेमाल करने के बाद भी स्किन का नेचुरल ऑइल कम नहीं होता, बना रहता है।

पसीना और सनस्क्रीन हटाने केलिए जेंटल क्लेंजर और सोप-फ्री वॉश का इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे स्किन पर इचिंग की शिकायत नहीं होगी, ये माइल्ड क्लेंजर्स स्किन की उसी तरह सफाई करते हैं जैसे बॉडी वॉश और साबुन करते हैं। अंतर केवल इतना है कि माइल्ड क्लेंजर्स स्किन का मॉइस्चर बनाए रखते हैं, एसेंशियल ऑइल्स भी बनाए रखते हैं।

बॉडी और चेहरे पर मॉस्चराइजर लगाने का सबसे अच्छा समय है शावर। शोध बताते हैं कि नहाने के तुरंत बाद ही लोशन और मॉस्चराइजर लगाने से स्किन का हाइड्रेशन बढ़ जाता है। यदि मॉस्चराइजर लगाने में देर करते हैं, तो इस तरह आप स्किन का वॉटर कंटेंट कम कर देते हैं जिससे स्किन ड्राय और इची महसूस होती है।

फायदेमंद यह प्रमाणित तो नहीं है लेकिन ऐसा माना जाता है कि शैंपू, क्लजरें और बॉडी वॉश गुनगुने पानी के साथ सबसे ज्यादा असरदार होते हैं। पानी ज्यादा गर्म नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे स्किन की सुरक्षा परत को नुकसान पहुंचता है। यदि यह परत हटती है तो स्किन पर कोई फ्गरेंस वाला रे प्रोडक्ट रिएक्ट भी कर सकता है।