वर्ल्ड एड्स डे / न्यूजीलैंड में दुनिया के पहले एचआईवी पॉजिटिव 'स्पर्म बैंक' की हुई शुरुआत

World's first HIV positive 'sperm bank' started in New Zealand
X
World's first HIV positive 'sperm bank' started in New Zealand

  • पूरे न्यूजीलैंड में तीन डोनर्स के साथ स्पर्म पॉजिटिव की शुरुआत हुई है
  • डोनर्स एचआईवी के साथ रह रहे हैं, लेकिन अब ये वायरस काफी कम असरदायक है
  • इसका मतलब है कि उनके लिए पार्टनर या बच्चों को वायरस पास करना संभव नहीं है

Dainik Bhaskar

Nov 27, 2019, 06:59 PM IST

लाइफस्टाइल डे्सक. एचईवी मरीजों के लिए दुनिया का पहला स्पर्म बैंक न्यूजीलैंड में शुरू किया जा चुका हैं। ये पहल एचआईवी जैसी बीमारी को अगली जेनरेशन तक पहुंचने से रोकने के लिए की गई है। स्पर्म को बैंक में रखने की शुरूआत 3 मेल डोनर्स के जरिए की गई। ये तीनों ही एचआईवी पॉजीटिव हैं और इस बीमारा को अपने बच्चों को नहीं देना चाहते हैं। स्पर्म बैंक फर्टीलिटी क्लिनिक की तरह काम नहीं करेगा। लेकिन ये अन्य फर्टीलिटी क्लिनिक के संपर्क में बना हुआ ताकि जरूरत पड़ने पर डोनर्स की मदद करे सकें।

ये सभी डोनर्स इस बीमारी से जुड़ी दवाइयां ले रहे हैं। मेडीकेशन के जरिए ये सुनिश्चित किया गया है कि अब इनके खून में HIV वायरस की मात्रा काफी कम हो गई है। हलांकि बीमारी जड़ से खत्म नहीं हुई है। लेकिन दवाइयों की वजह से ये जरूर तय है कि यौन संबंध के जरिए मरीज के शरीर में मौजूद वायरस पार्टनर या उनके बच्चे के अंदर नहीं जाएगा।
 

न्यूजीलैंड में आज भी HIV लोगों को कलंक लगता है: डोनर

    • स्पर्म बैंक ने कहा वे डोनर को ये साफतौर पर बताएंगे कि उन्हें HIV हैं लेकिन वो उन्हें ये भी बताएंगे कि इसका एक प्रभावी उपचार जो इस वायरस को आगे नहीं बढ़ने देगा। न्यूजीलैंड एड्स फाउंडेशन, पॉजिटिव महिला इंक और बॉडी पॉजिटिव के जरिए ये पहल की गई है। वे न्यूजीलैंड में लोगों को  HIV संचरण के बारे में शिक्षित करने के लिए काम कर रही हैं।
    • इंफेक्शन डिजीज डॉक्टर और ऑकलैंड विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. मार्क थॉमस ने कहा कि वे 30 से ज्यादा सालों से  HIV से पीड़ित लोगों के साथ काम कर रहे हैं और उन्होंने लोगों के नजरिए को बदलते देखा है। उन्होंने कहा: 'मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि इस समय में HIV को लेकर लोगों की समझ में बड़ा बदलाव आ रहा है, लेकिन HIV के साथ रहने वाले बहुत से लोग इस बीमारी को कलंक ही मानते हैं।
    • जनता को सूचित करने के साथ-साथ, ऑनलाइन क्लिनिक का उद्देश्य इस वायरस को रोक कर इससे एक नए जीवन को दुनिया में लाने का है। इससे जागरूकता बढ़ेगी और  HIV पॉजीटिव लोगों को ये पता चलेगा कि वो भी जीवन को आगे बढ़ाने में मदद करते हैं। न्यूजीलैंड एड्स फाउंडेशन (NZAF), पॉजिटिव वूमेन इंक और बॉडी पॉजिटिव द्वारा शुरू किए गए ऑनलाइन बैंक को 1 दिसंबर यानी वर्ल्ड एड्स डे 2019 से पहले लॉन्च किया गया है।

  1. एचआईवी पॉजिटिव लोगों के लिए ड्रग्स

    • यह उनके वायरस को दबा देता है, ताकि वायरस आगा ना बढ़े।
    • 1996 में, एंटी-रेट्रोवायरल थेरेपी (एआरटी) की खोज की गई थी।
    • दवा एक ट्रिपल कॉम्बीनेशन में है, ये मरीज़ की स्थिति को संयमित रखने में मदद करती है।
    • यह वायरस को दबाता है, इसे एड्स (एक्वायर्ड इम्यूनो डेफिसिएंसी सिंड्रोम) में विकसित होने से रोकता है, जिससे शरीर संक्रमण का सामना करने में असमर्थ हो जाता है।

    छह महीने तक दैनिक गोली लेने के बाद, यह वायरस को इस हद तक दबा देता है कि यह अवांछनीय है।

    नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के जरिए एक दशक लंबे अध्ययन सहित अध्ययन के स्कोर के अनुसार, एक बार जब किसी व्यक्ति में वायरस का असर कम होने लगता है। तो वे किसी और को एचआईवी का वायरस नहीं दे सकते हैं।

    दुनिया भर में सार्वजनिक स्वास्थ्य निकाय अब यह स्वीकार करते हैं कि यू = यू (अनिर्दिष्ट अपरिवर्तनीय के बराबर है)।

    एचआईवी-नकारात्मक लोगों के लिए दवाएं

    • यह एचआईवी को रोकने में 99% प्रभावी है
    • PrEP (प्री-एक्सपोज़र प्रोफिलैक्सिस) 2012 में उपलब्ध हुई।

    यह दवा 'गोली' की तरह काम करती है - यह दैनिक रूप से ली जाती है और एचआईवी संक्रमण को रोकने में 99 प्रतिशत प्रभावी है (गर्भनिरोधक गोली की तुलना में अधिक प्रभावी गर्भावस्था को रोकने में)।

    इसमें दो दवाएं (टेनोफोविर डॉस्प्रोसिल फ्यूमरेट और एमट्रिसिटाबिन) शामिल हैं। वे दवाएं एचआईवी के किसी भी निशान पर तत्काल हमला कर सकती हैं जो व्यक्ति के रक्तप्रवाह में प्रवेश करती हैं, इससे पहले कि यह पूरे शरीर में फैल सके।

  2. डेमियन नियम-नील पहले स्पर्म डोनर हैं। नील को 1999 में HIV पॉजीटिव होने की जानकारी मिली थी। लेकिन 18 साल पहले उनका इलाज शुरू किया गया। उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड में जनता के बीच अभी भी शिक्षा की कमी है। लोग  HIV को लेकर जागरुक नहीं हैं, जिस वजह से मुझे ये बीमारी किसी कलंक की तरह महसूस होती है। पर्सनल और प्रोफेशन लाइफ में मुझे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। 

    नील ने बताया- मेरे कई ऐसे दोस्त है जो HIV पॉजीटिव हैं, वो खुशहाल शादीशुदा जिंदगी जी रहे हैं और उनके बच्चे भी हैं। मैं दुनिया को बताना चाहता हूं कि किसी भी तरह की बीमारी आपको जीने से नहीं रोक सकती है। मैं  HIV पॉजीटिव लोगों की मदद करना चाहता हूं ताकि उन्हें अपना जीवन कलंक ना लगे। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना