• Hindi News
  • Women
  • Status Symbol Has Become Vintage Vanity, Keep In Mind Special Tips When Buying

स्टेटस सिंबल बन गई है विंटेज वैनिटी, खरीदते वक्त खास टिप्स का ध्यान रखें

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

1) जब नहीं होती थी वैनिटी टेबल

वैनिटी टेबल को ड्रेसिंग टेबल कहा जाने लगा। अब ये लगभग हर बेडरूम सुइट का हिस्सा बन चुकी थी। डार्क ओक, वॉलनट और महोगनी शेड के ट्रेंडी मैंचिंग सेट बनने लगे। 'क्वीन स्टाइल' वैनिटी टेबल रेज बन गया। सभी ड्रेसिंग टेबल्स के पैर स्टाइलिश थे जिनमें कर्व भी था।

1900वीं सदी
1900वीं सदी में शीशा आसानी से बन जाता था और ज्यादा महंगा नहीं होता था तो महिलाएं इसमें अपना पूरा रूप देख पाती थीं। छोटे व नाज़ुक शीशे टेबल के सबसे बड़े हिस्से में लगने लगे थे। 'द ट्रायफोल्ड' टेबल इस दौर में चर्चित थी और लगभग हर घर में दिख जाती थी। इसके बीच में ओवल और साइड में दो छोटे विंग मिरर होते थे जो फोल्ड हो जाते थे।

ज्यादा मेकअप नहीं है, तो यह ले सकते हैं। इसमें कुछ ड्रॉअर्स और एक साधारण शीशा होता है। छोटा कमरा है तो लिफ्ट-अप मिरर के साथ डेस्क में बदल जाने वाला डबल-ड्यूटी डिजाइन भी चुन सकते हैं। इसे डेस्क-वैनिटी कॉम्बो भी कहा जाता है।

फ्रेंच शब्द 'टुआलेट' का अर्थ होता है  'छोटा रुमाल' जिसमें महिलाएं खास कॉस्मेटिक्स बांधती थीं। कई टॉयलेट टेबल्स में वॉशबेसिन भी होते थे। 17वीं सदी में मेकअप निकालना आसान नहीं था इसलिए भी सिंक दिए जाते थे।

5) हर सेंचुरी में बदला अंदाज

इस दौर में आर्ट डेको मूवमेंट का हल्ला था। इसके बाद वैनिटी टेबल में बड़े बदलाव नज़र आए। 'द वॉटरफॉल' वैनिटी में बड़ा गोल शीशा लगा था और बाकी डिजाइन साधारण ही था। इसमें वैनिटी टेबल का वो खास लुक भी था जिसके लोग आज भी दीवाने हैं।

मेकअप कलेक्शन ज्यादा है, तो क्लासिक वैनिटी चुन सकते हैं। केवल इतना ध्यान दीजिएगा कि इसका सरफेस एरिया बड़ा हो जिसपर स्टोरेज ऑर्गनाइजर्स रखे जा सकें।   

8) हर ब्राइड के लिए एक वैनिटी

इन दिनों बहुत मशहूर है हॉलीवुड विंटेज वैनिटी जो सुपर ग्लैमरस लगती है। इसमें कई बड़े ड्रॉअर्स होते हैं और सरफेस एरिया भी काफी ज्यादा होता है।

डिजाइनर्स अब मटेरियल और आकार के साथ प्रयोग करने लगे थे। वे सैटिन, पाइन, मेटल और हल्के रंग के मटेरियल के साथ नई डिजाइन और फिनिश देते थे। इस दौर में कॉस्मेटिक इंडस्ट्री बढ़ रही थी, तो स्टोरेज का स्पेस भी बढ़ा दिया गया था।

2008 में विक्टोरियन डिजाइन को फेसलिफ्ट किया गया और इसके साथ ही विंटेज वैनिटी में जैसे नई जान आ गई थी। ऑफ वाइट, वाइट, ब्राउन, वॉलनट और ब्लैक रंग में अलग-अलग डिजाइन देखे जाते थे। ज्यादातर टेबल के पैरों में कर्व दे दिया जाता था। 

  • इजिप्शियन महिलाएं अपना आई मेकअप, परफ्यूम और ऑइल लकड़ी के फैंसी डिब्बों में रखा करती थीं। इन डिब्बों को वे बहुत हिफाजत से रखा करती थीं। लंबे समय तक मेकअप स्टोर करने की महफूज जगह थे ये डिब्बे। साल बीतते चले गए और इन डिब्बों का स्वरूप बदल गया। अब ये पहले से ज्यादा खूबसूरत हो गए और अंदर जगह भी बढ़ा दी गई। हैंडल ज्यादा आकर्षक हो गए। 17वीं सदी में यूरोप में ब्यूटी क्रांती की शुरुआत हो चुकी थी। इस दौरान छोटे मेकअप के डिब्बे जरा बड़े और बेहतर हो गए थे।
  • राज घरानों की महिलाओं का बोरिंग ब्यूटी रुटीन अब 'हैंगआउट सेशन' में बदलने लगा था। इन्हें एक ऐसी जगह की तलाश थी जहां साथ बैठकर बातें कर सकें और साथ में सज-संवर भी सकें। उस समय पुरुषों की शेविंग टेबल से प्रेरित होकर डिजाइनर्स ने महिलाओं के लिए नए कॉन्सेप्ट तैयार किए थे। इन्हीं में उन्होंने एक ऐसा फर्निचर पीस भी तैयार किया जिसपर दोस्तों के मनोरंजन के साथ ही आप लिख सकते हैं, कॉस्मेटिक्स स्टोर कर सकते हैं।

कंटेपररी डिजाइन्स ने वैनिटी का लुक बदल दिया था। एक्रिलिक मटेरियल और ग्लास टॉप वैनिटी का क्रेज था। इस दौर में वैनिटी में ट्रे और ऑर्गनाइजर्स लगना शुरू हुए। मेकअप स्टोर करने का ये सबसे मॉडर्न अंदाज था।

मॉडर्न वैनिटी टेबल जगह ज्यादा लेने लगी थीं। पहले केवल एक दीवार लेती थीं पर अब वैनिटी क्लोसेट और रूम बनना शुरू हो गए हैं। ब्यूटी इंडस्ट्री के बढ़ने से मेकअप लवर्स कमरे में ज्यादा शेल्व्स बनवा रहे हैं और वैनिटी में कई ड्रॉअर्स निकाल रहे हैं। 

लैकर और शिमर सन् 2000 की शुरुआत में फ्यूचरिस्टिक डिजाइन वाली कंटेंपररी वैनिटी टेबल दिखने लगी थीं। इनके फिनिश बड़े दिलचस्प होते थे। रंगीन लैकर और शिमरिंग इफेक्ट्स दिए जाते थे। इस दौर में ऑल-ओवर मिररिंग भी बहुत मशहूर वैनिटी स्टाइल था।

खबरें और भी हैं...