--Advertisement--

स्ट्रॉन्ग रिलेशन / पति-पत्नी के रिश्ते में छोटी-छोटी बातें बढ़ाती हैं मिठास



Danik Bhaskar | Sep 16, 2018, 05:13 PM IST

लाइफस्टाइल डेस्क. शादी सिर्फ एक स्त्री-पुरुष का साथ नहीं बल्कि दो परिवारों का मिलन होता है। हालांकि इस मिलन में कई बार छोटी-छोटी बातों पर तकरार भी हो जाती है। ऐसे में इस रिश्ते में मिठास बढ़ाने के लिए कुछ बातों पर ध्यान देना जरूरी है। रिलेशनशिप एक्सपर्ट अर्चना दगांवकर से जानते हैं कैसे रिश्तों की डोर को मजबूत बनाएं...

9 प्वाइंट्स: कैसे रिश्ते को बनाएं खुशहाल

  1. विश्वास हो 

    पति-पत्नी के रिश्ते की बुनियाद विश्वास पर टिकी होती है। किसी का दिल हम एक दूसरे पर किए गए विश्वास से ही जीत सकते हैं। भरोसा जीवन में शामिल हो तो छोटी-मोटी कई बातें हमें डिगा नहीं सकती हैं। 

  2. इमोशनल सपोर्ट

    एक दूसरे को भावनात्मक रूप से सहयोग करना जरूरी है। खासतौर पर पत्नी के लिए क्योंकि वो अपने परिवार को छोड़कर एक नए वातावरण मे प्रवेश करती है। दोनों एक दूसरे की भावनाओं का आदर करें।

  3. आपसी समझ

    दो लोगों के बीच आपसी समझ सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण और जरूरी पहल है। यह तभी संभव है, जब दोनों एक दूसरे पर विश्वास करते हों और भावनाओं की कदर करते हों।

  4. नोंकझोंक भी जरूरी

    प्रेम की पहली सीढ़ी शरारत भरी नोंकझोंक भी है। छोटी-छोटी बातों पर लड़ना भी पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत बनाने में मददगार होता है, पर यह तकरार लंबे समय तक नहीं होना चाहिए। 

  5. इज्जत दें

    दोनों को एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए। कभी किसी एक से गलती हो जाए तो सबके सामने बताने या चिल्लाने के बजाय अकेले में बात करना चाहिए। इससे जीवनसाथी की नजरों में सम्मान बढ़ेगा। 

  6. तारीफ करें

    यदि आपका साथी कुछ भी अच्छा कार्य करता है तो उस समय आप जरूर उनकी तारीफ करें। हर व्यक्ति जीवन में तारीफ के दो बोल सुनना पसंद करता है। 

  7. क्वालिटी टाइम बिताएं

    आज की बिजी लाइफ में कई बार हम ऐसी गलती कर देते हैं जिसकी वजह से जीवन के कुछ अनमोल पल भी साथ नहीं गुजारते। आप दोनों में किसी का भी जन्मदिन हो या विवाह की सालगिरह, उसे साथ में एंजॉय करें। 

  8. फाइनेंशियली सपोर्ट दे

    जब आप विवाह के बंधन में बंधते हैं तो दोनों को हर तरह से एक-दूसरे के साथ हर मोड़ पर साथ देना चाहिए। विवाहित दंपत्ति को बचत की आदत जरूर होना चाहिए। फिजूलखर्च कम से कम करने चाहिए। 

  9. स्पेस दें

    शादी के बाद पुरूष के जीवन में इतना परिवर्तन नहीं आता जितना एक स्त्री के जीवन में आता है। ऐसे में उसे उसके पसंदीदा लोगों के साथ वक्त गुजारने के लिए स्पेस दें।