दुखद:माता-पिता को खाना खिलाकर लौट रही तीन बहनें परमाण नदी में डूबी

पटेगना16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घर पर शव पहुंचने के बाद विलाप करते परिजन व जुटे ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
घर पर शव पहुंचने के बाद विलाप करते परिजन व जुटे ग्रामीण।
  • अररिया प्रखंड के रामपुर मोहनपुर पश्चिमी पंचायत वार्ड 6 में घटी घटना

शनिवार की दोपहर माता-पिता को खाना खिलाकर लौट रही दो सगी बहन समेत एक ममेरी बहन परमाण नदी में डूब गई। जिसे ग्रामीणों ने काफी मशक्कत के बाद तीनों को नदी से बाहर निकाला गया, तब तक तीनों की मौत हो चुकी है। घटना की सूचना पर पहुंचे बैरगाछी ओपी प्रभारी तौफीक खान ने तीनों शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल अररिया भेज दिया। घटना अररिया प्रखंड के रामपुर मोहनपुर पश्चिमी पंचायत वार्ड नंबर 6 की है। दोनों सगी बहन रामपुर मोहनपुर मध्य विद्यालय में कक्षा आठ और सात की छात्रा थी। बताया जा रहा है कि रफीक को तीन बेटी और एक बेटा था। जिसमें दो बड़ी बेटी की मौत हो गई। जानकारी मुताबिक रामपुर मोहनपुर पश्चिमी पंचायत वार्ड 6 निवासी मो. रफीक तथा उनकी पत्नी वसीमा खातून परमाण नदी पार बहियार में मक्का का भुट्टा तोड़ रही थी। रफीक की 20 वर्षीय पुत्री गाजिया प्रवीण तथा उसकी छोटी बहन 17 वर्षीय आशिया खातून एवं रफीक के साले की बेटी फारबिसगंज के सिमराहा थाना क्षेत्र के हल्दिया वार्ड 10 निवासी मो. सदाकत की 15 वर्षीय पुत्री रुखसार प्रवीण खाना पहुंचाने नदी पार कर बहियार गई थी। लौटने के क्रम में दोपहर करीब साढ़े 12 बजे गाजिया नदी पार करते समय गहरे पानी में जाकर डूबने लगी। उसे डूबते देख छोटी बहन आशिया खातून बचाने गई। बचाने के बजाय वह भी गहरे पानी में डूब गई। दोनों को डूबते देख उसकी ममेरी बहन रुखसार भी बचाने गई तो वह भी डूब गई।

एक दूसरे को बचाने के क्रम में डूब गई तीनों बहनें
अररिया प्रखंड के रामपुर मोहनपुर पश्चिमी पंचायत वार्ड नंबर 10 निवासी मो रफीक की दो पुत्री आशिया खातून व गाजिया प्रवीण की जनाजे की नमाज रामपुर मोहनपुर पश्चिमी कर्बला मैदान में अदा की गई। वहीं मो सदाकत की पुत्री रूखसार प्रवीण की जनाजे की नमाज हल्दिया कर्बला मैदान में अदा की गई। तीनों बच्ची के जनाजे की नमाज में सैकड़ों ग्रामीणों व रिश्तेदार पहुंचकर जनाजे में शरीक हुए और बच्ची के लिए दुआ मांगी। इसके बाद एवं स्थानीय कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

खेत में काम कर रहे मजदूरों का बचाने की कोशिश विफल
बगल में काम कर रहे कुछ मजदूर ने तीनों को डूबते देख हल्ला मचाया। हो हल्ला सुनकर आसपास के ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। कुछ ग्रामीण पानी में उतरकर काफी मशक्कत के बाद तीनों को बाहर निकाला। जब तक पानी से निकाला जाता तब तक तीनों की मौत हो चुकी थी। सूचना मिलते ही रामपुर ईदगाह घाट से उत्तर ग्रामीणों की भीड़ लग गई। वहीं मृतक के स्वजन बदहवास हैं। पोस्टमार्टम के बाद शनिवार शाम को शव पहुंचते ही मोहनपुर व फारबिसगंज के हल्दिया गांव में कोहराम मचा रहा। इधर मुखिया मो. सालेह आलम, सरपंच मो. असफाक, पैक्स अध्यक्ष मो. समीम, शंभुनाथ साह, उपमुखिया सूर्यानंद पासवान के अलावे लाल झा, प्रमोद पासवान, वार्ड सदस्य शाहिद, मंजर, अफजल आदि ने पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाया। वहीं सूचना पर अररिया अंचलाधिकारी गोपीनाथ मंडल भी घटनास्थल पर पहुंच कर तहकीकात की। वहीं सदर एसडीओ ने बताया कि जांच के बाद आपदा कोष के तहत मुआवजा दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...