विशेष निर्देश:जिले में संचालित हो रहा 33 नीरा स्टॉल, 253 हैं लाइसेंसधारी टैपर

औरंगाबाद13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सेहत के लिए सुबह का नीरा अमृत माना जाता है। इसमें विभिन्न तरह के विटामिंस और मिनरल्स मौजूद है। जिसकी वजह से शरीर को एंटीबॉडी बनाने के साथ ही तमाम तरह के जरूरी पोषक तत्व प्राप्त हो जाते हैं। इसलिए सुबह-सुबह नीरा का सेवन सबके लिए बेहद ही फायदेमंद है। इसके लिए बिहार सरकार की परियोजना जीविका द्वारा जिले के सभी प्रखंडों में 33 नीरा स्टॉल की मदद से प्रतिदिन हजारों लीटर नीरा की बिक्री की जा रही है।

डीएम सौरभ जोरवाल द्वारा नीरा बिक्री को लेकर विशेष निर्देश जीविका समूह को दिया गया है। जीविका के जिला परियोजना प्रबंधक पवन कुमार ने बताया कि प्रतिदिन सभी प्रखंडों में प्रति क्लस्टर से करीब 1100 लीटर नीरा की बिक्री हो रही है। इससे नीरा का कारोबार करने वाले टैपरों को रोजगार तो मिला ही है साथ ही नीरा औषधीय गुणों का भी फायदा लोगों को मिल रहा है।

जिले में 235 लाइसेंस धारी टैपर हैं। जिनके जरिए सभी प्रखंडों में नीरा बिक्री किया जा रहा है। इसके लिए विशेष तौर से पूरे जिले में 9 उत्पादक समूह बनाए गए हैं। जिनको डी फ्रीजर सहित तमाम तरह की सुविधाएं दी गई है। ताकि वह नीरा का पीएच बैलेंस बरकरार रख सके और औषधि गुण के साथ ग्राहकों को नीरा उपलब्ध करा सके। एक ग्लास नीरा 10 रुपये में स्टॉल पर बिक्री की जा रही है।

खबरें और भी हैं...