थानाध्यक्ष के विरुद्ध नारेबाजी:आरोपी स्वास्थ्यकर्मी के विरुद्ध कार्रवाई न करने का आरोप

अंबा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बहादुरपुर गांव में कुटुंबा थानाध्यक्ष का पुतला दहन करते ग्रामीण - Dainik Bhaskar
बहादुरपुर गांव में कुटुंबा थानाध्यक्ष का पुतला दहन करते ग्रामीण

कुटुंबा प्रखंड के बहादुरपुर गांव में आक्रोशित ग्रामीणों ने शनिवार को कुटुंबा थानाध्यक्ष कमलेश राम का पुतला फूंका। इस दौरान उपस्थित लोगों ने थानाध्यक्ष के विरुद्ध नारेबाजी किया तथा उन्हें अविलंब हटाये जाने की मांग किया। पुतला दहन कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे भाकपा माले के प्रखंड सचिव रमेश पासवान ने बताया कि कुटुंबा रेफरल अस्पताल में कार्यरत ए ग्रेड नर्स मीना सोलंकी अस्पताल के बाहर अपना अवैध क्लिनिक चलाती है। जहां कुछ दिनों पूर्व बहादुरपुर गांव वासी लाल मोहन राम की बहु रिंकू देवी अपना इलाज कराने गई थी। इस दौरान उक्त स्वास्थ्य कर्मी ने धोखाधड़ी कर मोटी रकम वसूल किया।

लेकिन उसकी तबीयत ठीक होने के बजाय बिगड़ती चली गई। तबीयत बिगड़ने पर परिजनों से आनन-फानन में इलाज के लिए औरंगाबाद सदर अस्पताल ले गए।जहां चिकित्सकों ने उसकी स्थिति गंभीर देखते हुए बेहतर इलाज के लिए मगध मेडिकल कॉलेज गया रेफर कर दिया। काफी मुश्किल से उसकी जान बची। इसके बाद उसने उक्त स्वास्थ्य कर्मी के विरुद्ध कुटुंबा थाना में एफआईआर के लिए आवेदन दिया।

लेकिन पुलिस उसे बचाने में जुट गई और एफआईआर दर्ज नहीं किया गया। इसके विरोध में ग्रामीणों द्वारा थानाध्यक्ष का पुतला दहन किया गया है। इस मौके पर लाल मोहन राम, अनिल राम के अलावा काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे। इधर पुतला दहन कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे भाकपा माले के प्रखंड सचिव ने बताया कि अगर अविलंब एफआईआर दर्ज कर मीना सोलंकी के विरुद्ध कार्रवाई न की गई तो आंदोलन तेज होगा।

खबरें और भी हैं...