‘मैं ’ देवभूमि आज 50 वर्षों की हो गई...:औरंगाबाद में विकास और बदलाव के 5 दशक पूरे

औरंगाबाद10 दिन पहलेलेखक:  ओम प्रकाश सिंह
  • कॉपी लिंक
औरंगाबाद की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
औरंगाबाद की तस्वीर।

औरंगाबाद जिले विकास और बदलाव के पांच दशक आज यानी 26 जनवरी 2023 को पूरा कर लिए । 19 जनवरी 1973 को औरंगाबाद को जिला बनाने की अधिसूचना राज्यपाल द्वारा जारी हुई थी। जो 26 जनवरी 1973 से जिला के रूप में प्रभावी हुआ। पांच दशक में कई उपलब्धियां मिली। कई दूरगामी फैसले लिए गए। जिससे हम बहुत चीजों को बदल पाएं। जिसके कारण आज औरंगाबाद पूरी तरह से देश के मानचित्र पर न सिर्फ अपना उपस्थिति दर्ज कराया है।

बल्कि पूरी तरह से बदल भी गया है। दशकों बाद अगर आज कोई औरंगाबाद आए तो उसके लिए शहर को पहचान पाना मुश्किल होगा। शहर में बड़ी-बड़ी इमारतें, शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्स, लग्जरी वाहन के शोरूम, दो बड़ी बिजली परियोजना व सीमेंट प्लांट जैसा उद्योग इसे अन्य जिलों से अलग करता है। कुछ चीजें हम बदल नहीं पाए।

जिसके लिए स्थानीय जनप्रतिनिधि, अधिकारी,जनता और समाजसेवियों। मिलकर प्रयास करनी चाहिए। ताकि हम भविष्य को एक नया औरंगाबाद दे पाएं। डीएम सौरभ जोरवाल ने बताया कि यह गाैरव का पल है। स्वर्ण जयंती समारोह मना रहे है। जिले को आगे ले जाने के लिए हर संभव कोशिश करेंगे।

ये जानना जरूरी

पहला सांसद-सत्येन्द्र नारायण सिन्हा पहला डीएम-केएच सुब्रमण्यन, 24 जनवरी 1973 को योगदान दिए। पहला एसपी-एसएसम कैरे, 27 फरवरी 1973 को योगदान दिए। पहला जिला जज-जयपति सिन्हा, 10 फरवरी 1977 में योगदान दिए।

इन मुद्दों को हल करना जरूरी

उत्तर कोयल सिंचाई परियोजना शहर में स्टेडियम निर्माण गांवों में इलाज का अभाव मजदूरों का पलायन जिले के पर्यटन स्थलों को राजकीय पहचान

खबरें और भी हैं...