औरंगाबाद में मेडिकल में असफल छात्रा ने की आत्महत्या:डॉक्टर बनने का था सपना, मई 2022 में हुई थी शादी, कई महीनों से डिप्रेशन में थी

औरंगाबाद2 महीने पहले
घटना के बाद इलाके में पसरा सन्नाटा

औरंगाबाद में नगर थाना क्षेत्र के क्षत्रीय नगर मोहल्ले में सोमवार कि सुबह एक नवविवाहिता ने अपने ही मायके में फांसी लगाकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है। घटना के बाद से आसपास के इलाकों में सनसनी फैल गई है। मृतका झारखंड के पलामू जिला अंतर्गत विश्रामपुर थाना क्षेत्र के रूद्र ओबरा गांव की हिमांशु शेखर की 25 वर्षीय पत्नी थी, जबकि मायका रफीगंज प्रखंड के कासमा थाना क्षेत्र के गाजी करमा गांव में है। मृतका के मायके वाले शहर के क्षत्रिय नगर मोहल्ले में ही रहते हैं।

नहीं मिल रही थी सफलता

मृतका के पिता आनन्द कुमार सिंह ने बताया कि अपर्णा को डॉक्टर बनने का सपना था, जिसे लेकर वह कोटा, बनारस, पटना में मेडिकल की तैयारी कर चुकी थी, लेकिन कई बार से उसे परीक्षा में सफलता हासिल नहीं हो रही थी, जबकि उसके साथ तैयारी कर रहे दोस्तों को सफलता मिल चुकी थी, जिसे लेकर वह हमेशा मानसिक तनाव में रहा करती थी, जिसका इलाज भी चल रहा था। इसी बीच वर्ष 14 मई 2022 को शादी करा दी गयी। उसके ससुराल वालों के तरफ से भी कोई परेशानी नहीं थी। फिलहाल वह मायके आयी हुई थी। तभी अचानक वह बन्द कमरे में फांसी के फंदे से झूल गई। इसके बाद घटना की सूचना नगर थाने के पुलिस को दी गयी। घटना की सूचना मिलते ही नगर थानाध्यक्ष सतीश बिहारी शरण अपने दल-बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और शव को अपने कब्जे में लेकर कागजी प्रक्रिया पूरी कर पोस्टमॉर्टम के लिए औरंगाबाद सदर अस्पताल लाया, जहां से पोस्टमॉर्टम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया गया।

क्या कहते हैं थानाध्यक्ष

इस घटना के बाद नगर थानाध्यक्ष सतीश बिहारी शरण ने बताया कि नवविवाहिता मेडिकल की छात्रा के द्वारा फांसी लगाकर हत्या करने की सूचना मिलते ही घटनास्थल पर पहुंचे और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराकर शव को परिजनों को सौप दिया गया। फिलहाल इस मामले में जांच पड़ताल की जा रही है।

खबरें और भी हैं...