स्कूल बैग सिंड्रोम:भारी स्कूल बैग बच्चों की मस्कुलोस्केलेटल सिस्टम को करता है प्रभावित, असंतुलन से शारीरिक विकृति संभव

बोधगया5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हम अक्सर देखते हैं कि बच्चे पीठ, गर्दन व कंधे में दर्द की शिकायत लेकर आते हैं, जो स्कूल बैग सिंड्रोम के कारण आम हो गया है। आजकल हम बच्चों को भारी स्कूल बैग ले जाते हुए देखते हैं। पिछले कुछ वर्षों के दौरान हुए महत्वपूर्ण स्वास्थ्य परिवर्तनों में से एक छात्रों के लिए काम के बोझ में बदलाव है और इसलिए स्कूल बैग के वजन में भी बदलाव जरूरी है।

फिजियोथेरेपी चिकित्सक डॉ नीरज सिंह उज्जैन का मानना है कि भारी स्कूल बैग शरीर की मुद्रा को बदल सकते हैं और इस तनाव की भरपाई के लिए मस्कुलोस्केलेटल सिस्टम को अत्याधिक प्रतिक्रिया देनी होती है। कुछ बच्चे हमेशा अपना बैग एक कंधे पर रखते हैं। लेकिन ऐसा करने या बैग को गलत तरीके से उठाने से जटिलताएं हो सकती हैं।

हर दिन इन गतिविधियों को दोहराने से रीढ़ की हड्डी को नुकसान हो सकता है और स्थायी संरचनात्मक विकृति हो सकती है। भारी स्कूलों के बैग की वज़ह से पोस्चरल असंतुलन सबसे चिंताजनक पहलू है।

फॉल्टी बॉडी पाश्चर भी मजबूर
यदि किसी बच्चे के पास एक भारी बैग है, जिसे अक्सर एक ही कंधे पर रखा जाता है, तो यह उन्हें ड्रॉप शोल्डर नामक एक पोस्चरल असंतुलन विकसित करने का कारण बन सकता है। एक कंधा दूसरे की तुलना में झुक जाएगा, जिससे दर्द, गतिशीलता में कमी और असामान्य चाल सहित अन्य समस्याओं की एक श्रृंखला हो सकती है।

इसके अलावा, अध्ययन के लिए बैठने के दौरान आपकी मुद्रा, सेल फोन, टैबलेट, आई पैड के अधिक उपयोग जैसे अन्य कारक एक गंभीर तनाव है, जिसे बदलने की आवश्यकता है। यह मांसपेशियों को तनाव देता है और बदले में शरीर को अप्राकृतिक मुद्रा (फॉल्टी बॉडी पाश्चर)) में जाने के लिए विवश करता है।

स्कूल बैग सिंड्रोम क्या है?
स्कूल बैग सिंड्रोम शारीरिक और भावनात्मक प्रभाव है जो बच्चे अपने स्कूल बैग के वजन के कारण अनुभव करते हैं। यह बढ़ते बच्चों के स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है। यदि बच्चा निम्न में से किसी एक का अनुभव कर रहा है, तो वह शायद स्कूल बैग सिंड्रोम से पीड़ित है- कंधे के ब्लेड का दर्द, गर्दन में दर्द, चक्कर आना, कंधे का दर्द, हाथ सुन्न होना, पीठ दर्द आदि।

बचाव के लिए स्कूलों में कक्षा संबंधी पाठ्य पुस्तकों को रखने की हो व्यवस्था

अल्पकालिक प्रभाव|प्रारंभिक प्रभावों में रीढ़ की हड्डी में तनाव और नरम ऊतक क्षति के कारण संभावित दर्द और परेशानी शामिल है। दीर्घकालिक प्रभाव|आसन में असंतुलन, रीढ़ की विकृति, पेशीय प्रणाली में परिवर्तन।

ऐसे करें स्पाइनल स्ट्रेस को कम

  • बच्चों के बैग को उनके कुल शरीर के वजन के अधिकतम 10 से 15 फीसदी तक ही भरें।
  • दोनों कंधे की पट्टियों का उपयोग करें, जो गद्देदार हों और कमर के ऊपर ठीक से समायोजित हों।
  • पीठ और धड़ की मांसपेशियों को मजबूत और लचीला बनाए रखने के लिए बच्चों को नियमित व्यायाम के लिए प्रेरित करें ।
खबरें और भी हैं...