कोर्ट ने सुनाया फैसला:नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने वाले दोषी को दस साल की सुनाई गई सजा

औरंगाबाद सदर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिविल कोर्ट ने सोमवार को नाबालिग किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाला दोषी को कोर्ट ने दस साल की सजा सुनायी। औरंगाबाद सिविल कोर्ट के एडीजे सह स्पेशल पोक्सो कोर्ट ब्रजेश कुमार पाठक ने फेसर थाना कांड संख्या 95/20 में सुनवाई करते हुए फैसला सुनाया। दोषी अभियुक्त मोहित कुमार फेसर थाना क्षेत्र के चतरा का रहने वाला है। अभियुक्त को भादंसं धारा 366ए में पांच साल की सजा और चार हजार जुर्माना लगाया है। जबकि धारा 363 में तीन साल की सजा और तीन हजार जुर्माना लगाया है।

वहीं पोक्सो एक्ट की धारा 4 में दस साल की सजा व पांच हजार जुर्माना लगाया गया है। जुर्माना न देने पर छह माह अतिरिक्त साधारण कारावास की सजा होगी। अधिवक्ता सतीश कुमार स्नेही ने बताया कि अभियुक्त पर नाबालिग पीड़िता को गांव से शाम में खेत से मोहित व दो अन्य साथियों के साथ मिलकर अपहरण कर पटना ले जाने का आरोप था।

वीडियो वायरल करने वाला आरोपी को तीन साल की सजा
छेड़छाड़ करने और फिर वीडियो वायरल करने वाले एक दोषी अभियुक्त को कोर्ट ने तीन साल की सजा सुनायी है। वहीं तीन हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। जुर्माना की राशि नहीं देने पर तीन माह की अतिरिक्त सजा होगी। यह फैसला औरंगाबाद सिविल कोर्ट के एडीजे सह स्पेशल पोक्सो कोर्ट ब्रजेश कुमार पाठक ने बारुण थाना कांड संख्या 285/21 में निर्णय पर सुनवाई करते हुए सुनाया। दोषी अभियुक्त सूरज यादव बारूण थाना क्षेत्र के गोरी बिगहा गांव का रहने वाला है।

स्पेशल पीपी शिवलाल मेहता ने बताया कि दोषी अभियुक्त को तीन साल की सजा सनायी गई है। वहीं तीन हजार जुर्माना लगाया गया है। जुर्माना न देने पर तीन माह अतिरिक्त साधारण कारावास होगी। अधिवक्ता सतीश कुमार स्नेही ने बताया कि प्राथमिकी नाबालिग पीड़िता के चाचा ने 04 सितंबर 2021 को दर्ज कराई थी। जिसमें कहा था कि अभियुक्त ने मेरी भतीजी के साथ छेड़छाड़ करते हुए विडियो वायरल कर दिया।

खबरें और भी हैं...