औरंगाबाद का डीजे बिल्डिंग का किया गया सौंदर्यीकरण:अंग्रेजों के जमाने का बना है सेंट्रल बिल्डिंग, जिला जज ने रखा विशेष ध्यान

औरंगाबादएक महीने पहले
औरंगाबाद का डीजे बिल्डिंग का किया गया सौंदर्यीकरण

औरंगाबाद में डीजे बिल्डिंग के नाम से मशहूर भवन का सौंदर्यीकरण किया गया। इसके लिए जिला जज द्वारा आदेश दिया गया था। बता दें कि जिले के नगर परिषद क्षेत्र के विरासत भवन को लोग डीजे भवन भी कहते है। ये सेंट्रल बिल्डिंग अंग्रेजी के जमाना 1915 से निर्मित है। इसे तत्कालीन जिला जज रजनीश कुमार श्रीवास्तव के द्वारा काफी प्रयास से डीजे भवन के चारों ओर एलइडी फ्लैश लाइट लगवा कर सौंदर्यीकरण किया गया।

इस बात की जानकारी देते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकार औरंगाबाद के पैनल अधिवक्ता सतीश कुमार स्नेही ने बताया की व्यवहार न्यायालय औरंगाबाद में लगाने के लिए बड़े पैमाने पर पौधे सहित गमले प्रदान किया गए है। जिला जज द्वारा न्यायालय से लेकर व्यवहार न्यायालय के गेट तक स्ट्रीट लाइट लगाने का कार्य प्रगति पर है। आम जनों के सुविधा के लिए तीन बोरिंग किया गया है। जिसमें मुवक्किलों को पानी सदैव उपलब्ध रहे।

गौरतलब हो कि पलना घर में भी बच्चों के लिए रसोई घर और बाथरूम बनाया गया है। व्यवहार न्यायालय परिसर के रास्ते के चारों तरफ फ्लाई ऐश ईट लगाया जा रहा है जिसकी सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है। अधिवक्ता सतीश कुमार स्नेही ने बताया कि डेंगू के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए प्रतिदिन एंटी लारवा दवा, ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव हो रहा है तथा नगर परिषद द्वारा मशीन से फागिंग की जा रही है एवं साफ सफाई पर विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

जिला विधिक संघ औरंगाबाद के मीडिया प्रभारी सतीश कुमार स्नेही ने बताया कि जिला विधिक संघ औरंगाबाद के अध्यक्ष रसिक बिहारी सिंह और महासचिव नागेंद्र सिंह ने जिला जज के विरासत भवन को सुरक्षित रखने और सौंदर्यकरण का कार्य सराहनीय और प्रशंसनीय है। कहा कि जिला जज रजनीश कुमार श्रीवास्तव के दृढ़ इच्छाशक्ति से संभव पाया है। जिला जज ने न्यायालय परिसर के सुरक्षा और शांति के लिए नो पार्किंग स्थल बनाया है।

खबरें और भी हैं...