पहल:आभा आईडी से मिलेगी पेपरलेस स्वास्थ्य सुविधा

बांका2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हर आधार कार्ड धारी का बन सकेगा आभा हेल्थ कार्ड, 14 अंकों का होगा यूनिक नंबर

आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट के तहत आम लोगों को भी रजिस्टर्ड किया जा रहा है। आभा अकाउंट के तहत बैंक अकाउंट की तरह अब आम लोगों की एक हेल्थ आईडी बनायी जा रही है। इसमें हेल्थ रिकॉर्ड संधारित रहेगा। व्यक्ति के पूर्व में इलाज की पद्धति, ब्लड ग्रुप बीमारी के प्रकार, किस प्रकार की दवा चली हुई है, सभी इसमें रहेंगे। इसमें एक क्यूआर कोड होगा, जिसे किसी भी डॉक्टर के यहां दिखाने तथा स्कैन करने पर सारा रिकॉर्ड दिखेगा। सारा रिकॉर्ड डिजिटल फॉर्म में उपलब्ध होगा। जिसका एक आईडी और पासवर्ड व्यक्ति के पास होगा। इस संबंध में जिला अनुश्रवण व मूल्यांकन पदाधिकारी मुकेश कुमार ने बताया कि जिले में आभा आईडी कार्ड बनाने का काम शुरू हो गया है। जहां भी स्वास्थ्य शिविर लग रहा है वहां स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा आभा आईडी बनायी जा रही है। वहीं जिन व्यक्ति के पास आधार कार्ड है, उनका आभा हेल्थ कार्ड बन जाएगा।

हेल्थ आईडी कैसे बनाएं
आभा हेल्थ आईडी 3 चरणों में बनाया जा सकता है। पहले चरण में अपना 10 अंकों का फोन नंबर दर्ज करें और ओटीपी के साथ प्रमाणित, सत्यापित करें। दूसरे चरण में अपना नाम, लिंग और जन्मतिथि दर्ज कर व तीसरे चरण में पीएचआर एड्रेस बनाएं, अपना राज्य और जिला चुन कर आईडी बना सकते हैं।

14 अंकों का होगा यूनिक नंबर
आभा नंबर डिजिटल स्वास्थ्य प्रणाली का हिस्सा बनने के लिए सबसे पहला कदम है, जो आपके स्वास्थ्य रिकार्ड को कागज रहित बनाता है। आभा हेल्थ आईडी कार्ड 14 अंकों का यूनिक नंबर है। जिसके साथ डिजिटल रूप से लिंक कर सकते हैं।

नेशनल हेल्थ आईडी कार्ड
हेल्थ आईडी कार्ड भारतीय नागरिकों के लिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन (एबीडीएम) के तहत भारत सरकार की एक पहल है। यह स्वास्थ्य संबंधी सभी जानकारी को एक ही जगह पर एकत्रित करता है। पूरे भारत में सत्यापित डॉक्टरों, अस्पताल एवं स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को आभा हेल्थ आईडी कार्ड देकर उनसे सभी मेडिकल रिकॉर्ड जैसे लैब रिपोर्ट, प्रिस्क्रिप्शन, अस्पताल के भर्ती एवं डिस्चार्ज के विवरण, एमआरआई रिपोर्ट आदि साझा किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...