स्वास्थ्य सलाह:बेहतर स्वास्थ्य के लिए गर्भवती महिलाओं और बच्चों के लिए नियमित टीकाकरण बेहद जरूरी

बांका2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नियमित टीकाकरण नहीं कराने से बच्चों के बीमार होने का खतरा हाेता है ज्यादा: डॉ. एसके चौधरी

गर्भस्थ बच्चे की अच्छी सेहत के लिए गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण बहुत जरूरी है। साथ ही जब बच्चा का जन्म हो जाए तो उसका पूर्ण टीकाकरण बहुत ही जरूरी हो जाता है। जिन गर्भवती महिलाओं और उनके बच्चों को नियमित टीकाकरण की सभी खुराक लग जाती तो उस बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो जाती है। इस वजह से वह जल्दी किसी भी प्रकार की बीमारी की चपेट में नहीं आता है। यदि वह किसी बीमारी की चपेट में आ भी जाता तो वह उससे जल्द ही उबर भी जाता है। बावजूद इसके जिन गर्भवती महिलाओं और बच्चों का नियमित टीकाकरण नहीं हो पाता है, तो उन बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता उतनी मजबूत नहीं होती और वह किसी भी बीमारी की चपेट में जल्द ही आ जाता है। इसके अलावा इससे उबरने में भी उसे काफी परेशानी होती है। इन्हीं सभी कारणों से बच्चों का नियमित टीकाकरण अवश्य करवाना चाहिए। शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. सुनील कुमार चौधरी ने बताया कि गर्भवती महिलाओं और बच्चों को गंभीर बीमारी से बचाव के लिए नियमित टीकाकरण बेहद जरूरी है। इससे न केवल गंभीर बीमारी से बचाव होता है, बल्कि सुरक्षित और सामान्य प्रसव को भी बढ़ावा मिलता है। इसके साथ ही बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास भी बेहतर तरीके से होता है। उन्हाेंने यह भी कहा कि नजदीकी आंगनबाड़ी केंद्रों या फिर अस्पतालों पर जाकर निश्चित रूप से टीकाकरण कराएं। नियमित टीकाकरण एक स्वस्थ राष्ट्र बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण कार्यक्रम है जो गर्भवती महिलाओं से आरंभ होकर शिशु के पांच साल तक होने तक नियमित रूप से दिये जाते हैं।

आंगनबाड़ी केंद्रों पर होता है नियमित टीकाकरण
डॉ. सुनील कुमार चौधरी ने बताया कि नियमित टीकाकरण का आयोजन जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर हर सप्ताह बुधवार और शुक्रवार को होता है। जरूरत पड़ने पर अन्य दिन भी टीकाकरण किया जाता है। इसके माध्यम से दो वर्ष तक के बच्चों को टीके लगाए जाते हैं। नियमित टीकाकरण बच्चों और गर्भवती महिलाओं को कई गंभीर बीमारियों से बचाव करता है। इसके साथ ही प्रसव के दौरान जटिलताओं से सामना करने की भी संभावना नहीं के बराबर रहती है। गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण होने से संस्थागत प्रसव को बढ़ावा मिलता है।

खबरें और भी हैं...