भारत स्वाभिमान ट्रस्ट:अनुलोम विलोम से माइग्रेन में मिलेगी राहत

बेगूसराय13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में उपस्थित अनुषांगिक संगठन के सदस्य। - Dainik Bhaskar
बैठक में उपस्थित अनुषांगिक संगठन के सदस्य।

भारत स्वाभिमान ट्रस्ट के सभी पांच अनुषांगिक संगठन की शनिवार को सर्वोदय नगर स्थित गायत्री मंदिर परिसर में बैठक हुई। जिसमें अनुमंडल और प्रखंड स्तरीय पदाधिकारियों के साथ योग विज्ञान को हरेक कस्बे तक पहुंचाने और इसके प्रति लोगों को जागरूक करने को लेकर समीक्षा की गई। बैठक में संगठन के विस्तार और लोगों को योग से जोड़कर स्वस्थ करने को लेकर भी चर्चा की गई।

बैठक में मुख्य अतिथि के रुप में स्वाभिमान ट्रस्ट के राज्य प्रभारी अजीत कुमार योग विज्ञान के बारे में बताया। साथ ही उन्होंने उपस्थित लोगों को योग विज्ञान के साथ जुड़ने और इसे हर घर तक पहुंचाने के लिए संगठित रूप से कार्य करने की अपील की। राज्य प्रभारी ने बताया कि आज योग को पूरा विश्व स्वीकार कर चुका है। कोरोना जैसी महामारी के समय में भी जब पूरा विश्व भय क्रांत था उस समय भी योग लोगों के जीवन का मुख्य आधार बना हुआ था।

उन्होंने कहा कि भारत में योग को आध्यात्मिक रूप से पूजा जाता है। जबकि पूरा विश्व इसे स्वास्थ्य लाभ के लिए अपना रहा है। साथ ही कहा कि अगले पांच साल में योग व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम साधन होगा। इसके अलावे कहा कि आज हरेक पंचायत में एक-एक अस्पताल खोलना काफी मुश्किल है, लेकिन हरेक मोहल्ले में योग शिविर लगाना उतना कठिन काम नहीं है।

स्वास्थ्य को लेकर उन्होंने कहा कि आज गैस जैसी साधारण समस्या से कई प्रकार की जटिल बीमारी हो रही है। लेकिन केवल कपालभाति के आधा घंटा प्रयोग से हम गैस से होने वाली बीमारियों पर काबू पा सकते हैं। इसी तरह अनुलोम-विलोम से माइग्रेन, सिरदर्द, अनिद्रा सहित अन्य प्रकार की बीमारियों का समाधान हो सकता है।

बैठक में उपस्थित जीडी काॅलेज के अंग्रेजी विभाग के प्रोफेसर अंजन कुमार सिंह ने कहा कि वे योग से उस समय से जुड़े हैं जब जिले में काफी कम लोग ही इसके प्रति जागरूक थे। उन्होंने कहा कि एक समय में योग केवल आध्यात्म का साधन था, लेकिन आज योग हमारे स्वास्थ्य की समस्या का सबसे बड़ा साधन है। उन्होंनें कहा कि योग के जरिए हम सभी असाध्य बीमारी से भी छुटकारा पा सकते हैं।

वहीं चंद्रश्वरी प्रसाद ने भी कहा कि स्वाभिमान भारत के सभी अनुषांगिक को मजबूत करने की बात कही। उन्होंने कहा कि योग के विस्तार को लेकर इसके अब हरेक घर, स्कूल, काॅलेज और समुदाय तक पहुंचना होगा। इसके अलावे पतंजलि की राज्य महिला प्रभार वीणा कुमारी ने भी योग के प्रचार-प्रसार को लेकर हरेक गांव तक पहुंचने की बात कही।

खबरें और भी हैं...