काॅलेज कैंपस:कैंपस नहीं रहा सुरक्षित, जिले के कॉलेज में कभी चलती है गोली, तो कभी मिलती शराब

बेगूसरायएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरसीएस कॉलेज मंझौल में हथियार लहराता बदमाश। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
आरसीएस कॉलेज मंझौल में हथियार लहराता बदमाश। (फाइल फोटो)

जिले में बढ़े क्राइम ग्राफ से डिग्री कालेजों के कैम्पस भी अछूते नहीं रहे। उच्च शिक्षण संस्थानों में भी लगातार आपराधिक गतिविधि बढ़ने से कैम्पस पहुंचने वाले छात्र-छात्राएं अपने आप को असुरक्षित महसूस करने लगे हैं। बाइक चोरी, साइकिल चोरी, बेल्टवाजी, बहसबाजी, काउंटर पर लाइन तोड़कर काम करवाना और छात्राओं पर मनचलों की फब्तियां कसना तो आम बात है।

अपडेट होते जमाने के साथ शिक्षा के मंदिर में अब गोली फायरिंग, हथियार के बल पर पिटाई, नशे का सेवन करने का सुरक्षित अड्डा बनने सहित कई अवैध गतिविधियां बढ़ती जा रही है। इतना ही नहीं शहर के कॉलेज से लेकर अनुमंडल तक के कॉलेजों में उक्त गतिविधियों के बढ़ने के बावजूद इसको रोकने को लेकर है।

महत्वपूर्ण बात यह है कि बिहार में लागू हुए शराबबंदी के बाद अब जिले में शराब तस्कर की नजर भी कालेज की ओर घूमने लगी है। शराब माफिया कालेज के पुराने भवन में शराब छिपाने के रूप में उपयोग करने का दुस्साहस करने से नहीं चूक रहे हैं।

घटना के बाद नहीं होती है कार्रवाई
जिले के डिग्री कालेजों में लगातार गैरकानूनी गतिविधियों के बढ़ने से उच्च शिक्षण संस्थान असुरक्षित हो गया है। ताजा मामला जिले के मंझौल आरसीएस कालेज की है जहां मंगलवार की दोपहर करीब डेढ़ दर्जन बदमाशों के द्वारा कॉलेज के प्रशासनिक भवन में घुसकर हथियार के बल पर मचाए गए उत्पात व फायरिंग की घटना के 24 घंटा से अधिक समय बीत जाने के बाद भी प्राथमिकी दर्ज नहीं हो सकी है। वहीं एपीएसएम कालेज बरौनी में शराब बरामदगी, एसबीएसएस कालेज बेगूसराय में गोलीबारी, जीडी कालेज बेगूसराय में कुछ महीने पहले पिस्टल की बट से पिटाई सहित अन्य कई मामले ठंडे बस्ते में पहुंच चुके है।

केस एक - आरसीएस कालेज मंझौल में फायरिंग
बीते मंगलवार को 17 मई की दोपहर आरसीएस कालेज मंझौल में ग्यारहवीं की वार्षिक परीक्षा संचालन के दौरान दस से पन्द्रह की संख्या में पहुंचे हथियारबंद बदमाशों ने कॉलेज में जमकर उत्पात मचाया व फायरिंग की। इस दौरान बदमाश ने कॉलेज गार्ड की भी पिटाई की व प्रशासनिक भवन , प्रिंसिपल चेम्बर की तरफ पिस्टल लहराते हुए घूमते रहे। कुछ मिनटों के बाद सभी बदमाश वहां से निकल गए। सुत्र बताते हैं कि कॉलेज में नामांकन के खेल में दबदबा बनाए रखने के लिए फायरिंग की घटना को अंजाम दिया गया है।

केस दो - एपीएसएम कालेज मिली था शराब
14 जून 2021 की रात बरौनी के एपीएसएम कालेज के एक पुराने कमरे से 470 कार्टन अवैध शराब बरामद हुई थी। इसकी बाजार कीमत करीब साढे 56 लाख रुपये आंकी गयी थी। इस मामले में कॉलेज के नाइट गार्ड समेत तीन पर एफआईआर हुई थी।

केस तीन - एसबीएसएस कालेज फायरिंग कर भागा
साल 2016 के 26 जुलाई को एसबीएसएस कालेज में असमाजिक तत्वों ने परीक्षा संचालन के दौरान प्रशासनिक भवन के सामने कई राउंड फायरिंग किया था। एक मोटरसाइकिल पर सवार दो असामाजिक तत्वों ने इस घटना को अंजाम दिया था।

केस चार - जीडी कालेज पिस्टल के बट से पिटाई
2021 के सितम्बर में जीडी कॉलेज में एडमिशन के नाम पर 17 हजार रुपया मांगने का आरोप लगाते हुए एक एक कथित छात्र की बर्बर तरीके से पिटाई का वीडियो वायरल हुआ था । जिोक छात्र को पकड़कर कमरा में लाकर उसकी लात, जूता, बेल्ट से जमकर पिटाई की थी। पिस्टल सटा कर मारने की धमकी देकर उसे नग्न करके थूक भी चटवाया था। लेिकन कॉलेज प्रशासन इन घटनाओं को लेकर गंभीर नहीं है। यही कारण है कि कैंपस में वारदात को अंजाम देना आम बात हो गई है।

खबरें और भी हैं...