बूढ़ी गंडक के तटबंध का निरीक्षण:बाढ़ पूर्व बांध मरम्मती का काम करें पूरा, काेताही बरतने पर हाेगी कार्रवाई

बेगूसरायएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधिकारियों को देशा-निर्देश देते डीएम। - Dainik Bhaskar
अधिकारियों को देशा-निर्देश देते डीएम।

बाढ़ पूर्व की तैयारियों का जायजा लेने के लिए डीएम राैशन कुशवाहा ने शनिवार काे बूढ़ी गंडक के तटबंध का निरीक्षण किया। डीएम ने नदी के बाएं तटबंध के बसही व फफाैत के संभावित कटाव स्थल पर हाे रहे मरम्मती कार्य का जायजा लिया वहीं माैजूद पदाधिकारियाें काे नदी में पानी आने से पहले बांध मरम्मती का कार्य पूरा करने का निर्देश दिया।

डीएम ने नावकाेठी के तीन बाढ़ कटाव स्थल का निरीक्षण किया। इन्होंने महेशवाड़ा पंचायत के बौधू सिंह हाईस्कूल पहसारा बभनगामा के सामने, डफरपुर पंचायत के वृंदावन और कमलपुर के कटाव स्थल का जायजा लिया।

डीएम ने आसपास के संवेदनशील जगहों को भी देखा
चेरियाबरियारपुर के बसही गांव पहुंचकर बूढ़ी गंडक नदी के बाएं तटबंध के उस स्थान का जायजा लिया जहां वर्ष 2007 में बांध टूटने से क्षेत्र में जान माल की बड़ी क्षति हुई थी। विभागीय अधिकारियों के साथ पहुंचे डीएम ने सबसे पहले स्थानीय लोगों से बातचीत करते हुए यह जानने का प्रयास किया कि बाढ़ के समय नदी में किस ऊंचाई तक पानी आता है तथा आसपास में बांध के किन स्थानों पर पानी का अधिक दबाव होता है। ग्रामीणों द्वारा बांध की सुरक्षा के लिए स्थायी रूप से कार्य करवाने की मांग पर डीएम ने विभागीय एसडीओ को इसके लिए विभाग को प्रस्ताव भेजने का निर्देश दिया।

कहा कि संवेदनशील स्थानों की सुरक्षा के लिए स्थायी इंतजाम किए जाएंगे। डीएम ने आसपास के संवेदनशील जगहों को भी देखा और अवश्यक निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान मंझौल के एसडीओ मुकेश कुमार, एसडीपीओ सत्येंद्र कुमार, बीडीओ कुंदन कुमार, सीओ योगेश दास, थानाध्यक्ष अमर कुमार, बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल रोसड़ा के एसडीओ नवीन कुमार एवं नितिन गर्ग, जेई रामनरेश सिंह, मुखिया निरंजन कुमार निराला, डब्लू सिंह आदि उपस्थित थे।

प्रखंड में सात ज़गह बूढ़ी गंडक नदी का बाएं तटबंध अति संवेदनशील
विभागीय अधिकारियों ने बाढ़ समय खोदावंदपुर प्रखंड में बूढ़ी गंडक नदी के खरनाक स्थलों के बारे में जानकारी पूछा तो सहायक अभियंता नवीन कुमार ने बताया कि खोदावंदपुर प्रखंड के फफौत, मेंघौल बेदुलिया, बरियारपुर बीबी घाट, मिर्जापुर, बाड़ा, बेगमपुर नुरूलाहपुर समेत कुल जगह अति संवेदनशील स्थल चिन्हित हैं जहां बाढ़ के समय विशेष चौकसी रहता है तथा फ्लड फाइटिंग के द्वारा तटबंध को बचाया जाता है। खोदावंदपुर प्रमुख संजू देवी ने प्रखंड क्षेत्र में जल जमाव के बावत डीएम का ध्यान आकृष्ट किया।

बभनगामा, वृंदावन, कमलपुर के बूढ़ी गंडक कटाव स्थल का लिया जायजा
नावकोठी। प्रखंड के बूढ़ी गंडक नदी में जल संसाधन विभाग के पदाधिकारियों से इन कटाव स्थल पर गत वर्ष किए गए कटाव रोधी कार्य के संबंध में पूछताछ की। इस वर्ष इन कटाव स्थल पर किए जाने वाले कार्य के संबंध में भी जानकारी ली ।

इन्होंने बाढ आने के पूर्व इन कटाव स्थल पर कार्य पूर्ण करवाने का निर्देश दिया। गत वर्ष 2021 में बभनगामा में 1600 मीटर, वृंदावन में 500 मीटर तथा कमलपुर में 1000 मीटर नाइलोन की बोरी में मिट्टी भरकर कटाव रोधी कार्य किया गया था। डीएम के आने से लोगों में बाढ़ के पूर्व कटाव रोधी कार्य पूर्ण होने की आस जगी है।

450 मीटर में करवाए जा रहे मरम्मती कार्य का किया गया अवलाेकन
खोदावंदपुर। बूढ़ी गंडक नदी के बाएं तटबंध की मरम्मती कार्य का जायजा लेने डीएम फफौत पहुंचे। जहां रानी पुल से सौ मीटर पूरब करीब 450 मीटर में करवाए जा रहे मरम्मती कार्य का अवलोकन किया। बाढ़ प्रमंडल रोसड़ा एसडीओ नितिन गर्ग से कहा कि तटबंध मरम्मती कार्य हो या चलाया जा रहा हो कटावरोधी कार्य गुणवत्तापूर्ण होनी चाहिए। बाढ़ नियंत्रण एसडीओ को नदी में पानी आने से पहले कार्य निष्पादन करने का निर्देश दिया। संवेदक नीरज कुमार एवं विभागीय पदाधिकारियों को गुणवत्तापूर्ण काम करने कराने तथा समय पूर्व बांध मरम्मती कार्य पूरा करने का सख्त निर्देश दिया।

एक करोड़ 41 लाख की राशि से हाे रही बांध की मरम्मती
बताते चलें कि फफौत गांव के समीप बूढ़ी गंडक नदी के बाएं तटबंध में रानी पुल से पूरब नदी का धार ततबंध से सटकर प्रवाहित होता है। यह विभाग की नजर में अति संवेदनशील कटाव स्थल है। तत्कालीन डीएम की अनुशंसा पर इस स्थल पर 450 मीटर की लंबाई में एक करोड़ 41 लाख की राशि से बांध मरम्मती का कार्य आरंभ किया गया।

इस अवसर पर एसडीएम मंझौल ई. मुकेश कुमार, एसडीपीओ सत्येंद्र प्रसाद सिंह, बीडीओ राघवेंद्र कुमार, सीओ अमरनाथ चौधरी, एसआई अर्चना झा, एसडीओ बाढ़ प्रमंडल रोसड़ा नितिन गर्ग, एसडीओ बाढ़ प्रमंडल नरहन नवीन कुमार, कनीय अभियंता राम प्रवेश कुमार, राम नरेश, संजू देवी, मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...