• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Begusarai
  • Due To Rain, There Is Water In The Drain On The Roads And Somewhere In The Mud, The Roads Of Many Localities Became Fatal.

मानसून सक्रिय: निगम प्रशासन निष्क्रिय:बारिश के कारण कहीं सड़कों पर नाले का पानी तो कहीं कीचड़, कई मोहल्ले की सडकें बनी जानलेवा

बेगूसराय2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुसलाधार बारिश के बाद आनेवाली सड़कों की स्थिति। - Dainik Bhaskar
मुसलाधार बारिश के बाद आनेवाली सड़कों की स्थिति।

जिले में मानसून के सक्रिय होने के साथ ही शहर की स्थिति बदतर हो गई है। सड़कों पर चलने वालों को मुंह से बाप रे निकल रहा है! शहर में कई जगह सड़कें धंस गई है। कई जगह सड़क पर नाले का पानी बहने लगा, कहीं कीचड़ फैला हुआ है तो कई मोहल्ले की सड़कें जानलेवा हो गई है। स्थिति यह कि पैदल चलना भी लोगों को मुश्किल हो गया है। 30.5 मिलीमीटर बारिश के कारण कचहरी और सदर अस्पताल में पहली ही बारिश में जलजमाव का नजारा था।

जबकि यह मौसम की शुरूआत ही है। मौसम विभाग ने अभी बारिश का आरेंज अलर्ट जारी किया है। इस दौरान बारिश के साथ ही मेघ गर्जन और ठनका गिरने की भी चेतावनी जारी की गई है। इसके अलावे अभी दो जुलाई तक बारिश की संभावना जताई गई है। जिसमें एक जुलाई तक भारी बारिश होने संभावना है। ऐसे में शहर के सड़कों की नारकीय स्थिति देख कर यह कहा जा सकता है कि बरसात में स्थानीय लोग भगवान भरोसे ही है।
3 जून को मौसम रहेगा साफ
मालूम हो कि 19 जून को हुई बारिश के बाद बुधवार को मॉनसून फिर से सक्रिय हुआ है। सुबह ग्यारह बजे से शुरू हुई बारिश शाम के पांच बजे तक लगातार होती रही। इस दौरान करीब 30.5 मिमी बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग की माने तो दो जुलाई के बाद मौसम में परिवर्तन जरूर होगा लेकिन इसके बाद लगातार पूरे जुलाई माह में रूक-रूक कर बारिश होने की संभावना है। आने वाले 30 जून और एक जुलाई को भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। 30 जून को 33.8 मिमी जबकि एक जुलाई को 37.5 मिमी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। वहीं दो जुलाई को 11.7 मिमी बारिश होने की संभावना जताई गई है।
पहली ही बारिश में सड़क बनी झील
बुधवार को पूरे दिन रुक-रुक कर हुई बारिश से जहां तहां हुए जलजमाव से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। बेगूसराय व्यवहार न्यायालय, सदर अस्पताल सहित नगर निगम क्षेत्र की कई महत्वपूर्ण सड़कें झील में तब्दील हो गई। सदर अस्पताल में मौजूद होमगार्ड कर्मी ने बताया कि यहां आने वाले लोग ना पुर्जा कटा पा रहे हैं, ना दवा ले पा रहे हैं और ना ही इलाज करवा पा रहे हैं।

वहीं न्यायालय के काम से आने वाले महिलाएं और पुरूष मुख्य द्वार से लौटते दिखे। इसको लेकर अधिवक्ता ने कहा कि मानसून की पहली बारिश में ही पूरा कोर्ट परिसर डूब गया है। अगर यही स्थिति रही तो यहां नाव चलाना पड़ेगा । सड़कों की स्थिति ऐसी है कि नगर िनगम की नाला उड़ाही हो या वर्षा पूर्व तैयारी सभी फेल नजर आ रही है।

नगर निगम क्षेत्र के मीरगंज मोहल्ला, हनुमान चैक से पिपरा चैक, विशनपुर से एनएच-31 पर निकलने वाली सड़क के अगल बगल बसे मोहल्ले में, स्टेशन रोड , मुंगेरीगंज , वार्ड नंबर 22 के तैलिया पोखर मोहल्ला, लोहियानगर मोहल्ला , वार्ड 26 के आनन्दपुर के गाछी टोला सहित कई मोहल्ले में , वार्ड नंबर 32 के माली टोला, वार्ड नंबर 25 के बाघी, वार्ड नंबर 30 के गाछी टोला, वार्ड नंबर 31 के जागीर मोहल्ला, वार्ड नंबर 36 के अशोक नगर पोखरिया सहित अन्य मोहल्लों के सड़कों पर जलजमाव हो गया।

खबरें और भी हैं...