भास्कर इंपैक्ट:डीईओ के हस्ताक्षर स्कैन कर नियोजन मामले में दो शिक्षकों पर प्राथमिकी का दिया आदेश

बेगूसरायएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डीईओ के फर्जी हस्ताक्षर कर दो शिक्षकों को उनके ही कार्यालय में प्रतिनियोजित करने के मामले में अब दोनों शिक्षकों पर एफआईआर करने का आदेश दिया गया। डीईओ ने लगभग ढ़ाई महीने बाद इस मामले में दोनों विद्यालय के एचएम को दोनों शिक्षक नीलम प्रभा और रामविलास दास पर एफआईआर दर्ज करते हुए तीन दिनों के अंदर रिपोर्ट करने का आदेश दिया है। मालूम हो कि फर्जीवाड़े के इस मामले में किसी को भी पता नहीं था, यहां तक कि फर्जी रूप से प्रतिनियुक्त शिक्षक घर बैठ कर वेतन भी उठा रहे थे।

डीईओ का हस्ताक्षर स्कैन कर दो शिक्षकों को कार्यालय में ही कर दिया प्रतिनियोजित हेडिंग के साथ आठ मई को खबर प्रकाशित होने के बाद इस मामले की जानकारी सभी को हुई। हालांकि उस समय डीईओ ने इस मामले में दोनों शिक्षकों को कार्यालय बुलाकर सुनवाई करने की बात कही थी। लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ भी नहीं किया। इसके बाद दैनिक भास्कर ने 10 मई को फिर खबर प्रकाशित किया जिसमें, हालांकि उस समय पूछने पर डीईओ ने बताया था कि दोनों को बुलाकर सुनवाई की गई है, कार्रवाई क्या हुई इस पर कुछ नहीं बोला, हालांकि खबर प्रकाशित होने के बाद अब कार्रवाई का आदेश दिया है।

शनिवार को डीईओ ने पत्र जारी कर प्रभारी प्रधानाध्यापक प्राथमिक विद्यालय बैरा शाहपुर बलिया और उत्क्रमित मध्य विद्यालय पंचरूखी डंडारी को संबंधित शिक्षकों पर प्राथमिकी कराने का निर्देश दिया है। अपने पत्र में डीईओ शर्मिला राय ने कहा है कि शिक्षिका नीलम प्रभा का प्रतिनियोजन जिस पत्रांक 1369 दिनांक 08 मार्च 2022 और शिक्षक रामविलास दास का प्रतिनियोजन जिस पत्रांक 1385 दिनांक 23 मार्च 2022 से किया गया था, वह कार्यालय से निर्गत नहीं है। स्पष्ट है कि नीलम प्रभा और रामविलास दास द्वारा डीईओ का फर्जी पत्र हस्तगत कराया गया।

खबरें और भी हैं...