अन्नप्राशन कार्यक्रम का आयोजन:छह माह से ऊपर आयुवर्ग के बच्चों को शुद्ध पौष्टिक आहार देना है जरूरी

नावकोठीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अन्नप्राशन कार्यक्रम में मौजूद आंगनबाड़ी सेविका, अभिभावक माता। - Dainik Bhaskar
अन्नप्राशन कार्यक्रम में मौजूद आंगनबाड़ी सेविका, अभिभावक माता।

बच्चों को शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रखने के उद्देश्य सेआइसीडीएस विभाग के विभिन्न आंगनबाड़ी केन्द्रों पर गुरुवार को छह माह से ऊपर के बच्चों को अन्नप्राशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। प्रत्येक माह बाल पोषण के संवर्धन के लिए अन्नप्राशन कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। विष्णुपुर पंचायत के विभिन्न आंगनबाड़ी केन्द्रों के आंगनबाड़ी सेविकाओं ने सामूहिक अन्नप्राशन कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम का उद्घाटन महिला पर्यवेक्षिका पद्मावती किरण ने किया। सेविकाओं ने सब्जी, अनाज, फल एवं पत्तियों से आकर्षक रंगोली का निर्माण कर पोषण का संदेश दिया।

इस कार्यक्रम के दौरान महिला पर्यवेक्षिका ने उपस्थित माताओं को बताया कि छह महीने से ऊपर के बच्चों को उम्र के हिसाब से हर माह ऊपरी आहार कटोरी के माप से खिलाना चाहिए। छह महीने तक सिर्फ बच्चों को स्तनपान तथा उसके बाद ऊपरी आहार खिलाना आवश्यक है।इससे बच्चों का सर्वांगीण विकास होता है और बच्चे कुपोषण के शिकार नहीं होते हैं।

विटामिन युक्त हरे साग सब्जी,फल,अंडा,दाल एवं आयरन फोलिक एसिड टेबलेट के प्रदर्शनी भी लगाई गई। मौके पर कमरून निशा बेग, जीवछ कुमारी, रोजी खातुन, मधुरानी कुमारी, चांदनी कुमारी, मीना कुमारी, इन्दु कुमारी, श्वेता कुमारी, पूनम मौजूद थी।

खबरें और भी हैं...