मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम:शिक्षक बोले- आपदा को रोका नहीं जा सकता, कम किया जा सकता

नावकोठी14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
माॅकड्रील कर प्राथमिक उपचार के तरीके को बताते हुए शिक्षक व छात्र - Dainik Bhaskar
माॅकड्रील कर प्राथमिक उपचार के तरीके को बताते हुए शिक्षक व छात्र

प्रखंड के विभिन्न स्कूल में मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के तहत सुरक्षित शनिवार कार्यक्रम का आयोजन किया गया। अपग्रेड मिडिल स्कूल नीरपुर में मई माह के दूसरे शनिवार को आपदा प्रबंधन पर स्कूली बच्चों ने वाद विवाद प्रस्तुत किया। बाल प्रेरक,मीना मंच के सदस्य बाल संसद से जुड़े बच्चों के बीच आपदा न्यूनीकरण को लेकर विशेष चर्चा कराई गई।

फोकल शिक्षक ने बताया कि बच्चे अधिकतर समय स्कूल में बिताते हैं। स्कूल और घर जाने के दौरान संभावित जोखिमों की पहचान करना सभी बच्चों के लिए जरूरी है। स्कूल में बच्चे आपदा के दौरान सुरक्षित कैसे रहे इसके लिए स्कूल के आसपास संभावित खतरे की पहचान आवश्यक है।गर्मी के महीनों में लू से बचाव एवं उसके खतरे से अवगत कराया गया।

लू से प्रभावित व्यक्ति को माॅक ड्रील कर प्राथमिक उपचार करने की विधि को बताया गया। शिक्षकों ने बताया कि आपदा अचानक से घटित होती है। आपदा को रोकना मुमकिन नहीं है, परंतु आपदा पूर्व तैयारी करके जोखिमों का न्यूनीकरण संभव है।बच्चों को संभावित आपदा से भी अवगत कराया गया। आपदा प्रबंधन को लेकर गांव में जागरुकता फैलाने की अपील की गई। मौके पर स्कूल के हेड मास्टर अमित कुमार, सहायक शिक्षक पंकज आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...