• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Begusarai
  • The Villagers Claimed That Yuvraj And Sumit Fired Bullets, Sumit Was In The Funeral Ceremony At The Time Of The Incident.

पुलिस की थ्योरी:युवराज व सुमित ने बरसायी गोली ग्रामीणों का दावा, घटना के वक्त श्राद्धकर्म में था सुमित

बेगूसराय6 दिन पहलेलेखक: विभूति भूषण/घनश्याम
  • कॉपी लिंक
कपड़ा दिखाते सुमित के परिजन - Dainik Bhaskar
कपड़ा दिखाते सुमित के परिजन

बेगूसराय शूटआउट मामले में पुलिस ने बीहट से दो, जेमरा से एक तथा हाजीपुर पीपरा से एक बदमाश को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। पुलिस ने खुलासा किया है कि गिरफ्तार युवराज सिंह उर्फ सत्यजीत और सुमित ने जहां 11 बेगुनाह राहगीरों पर गोलियां बरसायी है, जिसमें चंदन की मौत हो गई। जबकि गिरफ्तार केशव कुमार उर्फ नागा उर्फ नगवा तथा कुख्यात बदमाश चुनचुन ने शूटआउट की साजिश रची है।

पुलिस का दावा है कि बदमाशों ने इलाके में अपना दबदबा कायम करने तथा आम लोगों में अपनी दहशत फैलाने के लिए घटना को अंजाम दिया है। नगवा को झाझा से, युवराज को बेगूसराय कचहरी के पास से, सुमित को घर से जबकि चुनचुन उर्फ बाबा को साहेबपुरकमाल से गिरफ्तार किया गया था। जबकि दो 2 शूटर अभी फरार हैं। दैनिक भास्कर ने चारों आरोपी के घर पहुंच कर ग्राउंड रिपोर्टिंग की तो परिजनों और ग्रामीणों के बयान तथा मिले सबूतों से चौकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। इस दौरान पता चला कि चारों आपस में एक-दूसरे को जानते हैं।

युवराज पर एक भी केस नहीं लेकिन फेसबुक पर अपने आप को बताता है माफिया डॉन

पहला आरोपी

युवराज सिंह, भूमिका-गोलीबारी

बरौनी थाना के जेमरा का युवराज इंटर का छात्र है। जबकि पुलिस उसे बालिग मान रही है। युवराज के पिता मंझौले किसान हैं। युवराज की दादी मंदरिका देवी, उसके दोस्त प्रिंस, छोटु समेत अन्य ग्रामीणों का दावा है कि पूरे शाम युवराज हमलोगों के साथ ही था। उसपर पहले से कोई भी मुकदमा नहीं है, घरवालों के अनुसार युवराज ऐसा भयंकर अपराध नहीं कर सकता है। युवराज ने फेसबुक पर माफिया डॉन युवराज के नाम से अपना अकाउंट बना रखा है, जिसमें उसने लिखा है आग लगा देंगे, बेटा तुम्हारी जवानी में अगर इंट्री करोगे हमारी कहानी में।

दूसरा आरोपी​​​​​​​

सुमित कुमार, भूमिका-शूटर

​​​​​​​हाजीपुर पिपरा का 19 साल का सुमित बीए पार्ट-वन का छात्र है। परिजनों और ग्रामीणों के अनुसार चंद माह पहले तक सुमित का असमाजिक तत्वों से संगत था। परिजनों ने जब उस पर सख्ती बढ़ा दी तो वह अधिकतर समय गांव तथा परिवार वालों के साथ ही गुजारता था। ग्रामीणों का दावा है कि शूटआउट के दिन घर के बगल में श्राद्धकर्म में वह शामिल था। जबकि शाम के वक्त गाय दुह कर वह दूध पहुंचाने सेंटर भी गया था। जिसकी लगभग 50 ग्रामीणों ने तस्दीक की।

तीसरा आरोपी​​​​​​​

केशव उर्फ नागा उर्फ नगवा
शूटआउट का मास्टरमाइंड केशव 16 साल 10 माह का है। पुलिस इसे बालिग बता रही है 15 सितंबर की रात करीब 9 बजे झाझा स्टेशन से उसकी गिरफ्तारी हुई। केशव लुट और आर्म्स एक्ट के 2 केस में चार्जशीटेड है। परिजनों का कहना है कि पुलिस बेवजह मेरे बेगुनाह बेटे को फंसा रही है। 15 सितंबर की सुबह 5 बजे एसपी ने नागा के बड़े भाई को पकड़ लिया और नागा भाग गया।

चौथा आरोपी​​​​​​​

बुधना की हत्या कर चर्चा में आया था चुनचुन सिंह
चुनचुन सिंह और केशव का घर अगल-बगल में है। दोने रिश्ते में चाचा-भतीजा है। साल 2019 के 27 जून की रात चुनचुन सिंह अपने साथियों के संग मिल कर कुख्यात अमरजीत सिंह उर्फ बुधना को उसके घर पर ही गोलियों से छलनी कर चर्चा में आया था। चुनचुन पर हत्या, लुट,आर्म्स एक्ट और डकैती की तैयारी करने समेत 6 संगीन केस दर्ज है। परिजनों के अनुसार शुट आउट के वक्त केशव और चुनचुन एक साथ बिहट के कुणाल लाइन होटल पर थे। जिसमें वह लगातार फोन पर बातचीत करता दिखा है।
भास्कर इन्वेस्टिगेशन-पुलिस की थ्योरी में हैं कई झोल
{1) शूटर्स के सीसीटीवी के अनुसार पीला टी-शर्ट पहन बाइक चला रहा युवक युवराज है। जबकि पीछे बैठा युवक सुमित। युवराज 6 फीट लंबा है। जबकि सुमित की लम्बाई 5 फीट 3 इंच है। जबकि सीसीटीवी फुटेज के अनुसार बाइक चालक, पीछे बैठे युवक से लम्बाई में काफी छोटा है।
{2) सीसीटीवी में कैद कथित शूटर युवराज और सुमित का फोटो, जारी सीसीटीवी वाले हुलिए से मैच नहीं कर रहा है।
{3) चारों शूटर रानी गोधना किन रास्तों से होकर पहुंचे। यह पुलिस को अब तक पता नहीं है।
{4) 5 बजकर 5 मिनट पर जब तेघड़ा थाना के सामने से पीला शर्ट वाला बदमाश सीसीटीवी में कैद होता है तो बड़ा सवाल है कि तब बगराहा डीह के पास किसने चंदन की हत्या की और रोहित पंडित को गोली मारी 9
{5.) चुनचुन सिंह को छोड़ कर बाकी 3 छुटभैया बदमाश हैं। आखिर सुमित और युवराज ने रानी गोधना से ही राहगीरों को क्यों निशाना बनाना शुरू किया।
{जमुई एसपी ने प्रेसवार्ता कर कहा था कि केशव ने घटना में गोलीबारी की बात कबूल की है जबकि बेगूसराय पुलिस उसे साजिशकर्ता ही क्यों मान रही है।

खबरें और भी हैं...