बेगूसराय में 11 लोगों को गोली मारने वाले हिस्ट्रीशीटर:पुलिस बोली- दहशत फैलाने की वारदात; गिरिराज बोले- ये आतंकी घटना, असली नाम छिपाए गए

बेगूसराय2 महीने पहले

बेगूसराय में दहशत फैलाने के लिए नेशनल हाईवे पर 11 लोगों को चार बदमाशों ने गोली मारी थी। पुलिस ने घटना के दो दिन बाद इसका खुलासा किया है। चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। बेगूसराय एसपी योगेंद्र कुमार ने कहा कि आरोपियों का मकसद दहशत फैलाना था। आरोपियों के पास से दो देसी पिस्टल और 5 कारतूस बरामद किए गए हैं।

एसपी ने कहा- इसकी प्लानिंग में और लाेग भी शामिल हैं। ये सभी फायरिंग करने वालों के साथ संपर्क में थे। अभी जांच चल रही है। पुलिस ने केशव कुमार, युवराज, चुनचुन और सुमित कुमार को गिरफ्तार किया है। युवराज और सुमित गोली चला रहे थे, जबकि चुनचुन और केशव बाइक ड्राइव कर रहे थे।

नेशनल हाईवे 28 और 31 पर 13 सितंबर को 5 जगहों पर 2 बाइक सवारों ने गोलियां बरसाई थीं, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। इस मामले में गिरफ्तार चारों आरोपी बेगूसराय के ही रहने वाले हैं। चारों पर पहले से ही आपराधिक मामले दर्ज हैं।

गिरिराज ने कहा- आतंकी घटना, असली का नाम छिपाया
इधर, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बेगूसराय गोलीकांड पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने इसे आतंकी घटना करार दिया। मंत्री ने कहा कि इसकी जांच NIA से कराई जानी चाहिए। बिहार सरकार अपराधियों के नाम छिपाने में लगी है। इसलिए इस मामले में हिंदुओं का नाम दिखा रहे हैं।

पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दीजिए...

CCTV फुटेज से हुई पहचान
एसपी ने कहा कि चार टीमें बनाई गई थीं। बेगूसराय, समस्तीपुर, पटना, खगड़िया, जमुई और लखीसराय जिलों में छापेमारी की गई। एसटीएफ और सीआईडी भी आरोपियों को पकड़ने के लिए जुटी थीं। हाईवे पर लगे 22 सीसीटीवी कैमरे खंगाले गए। इसके आधार पर युवराज की पहचान करके गिरफ्तार किया गया। फिर सुमित, चुनचुन को पकड़ा गया। केशव को झारखंड की झाझा रेलवे स्टेशन पर पकड़ा गया। वह रांची भागने के फिराक में था।

एसपी ने कहा कि पूछताछ में अपराधियों ने अपना अपराध स्वीकार किया है। युवराज ने घटना के समय यलो रंग की टीशर्ट पहनी थी, वह सुमित के घर से मिली है। युवराज के निशानदेही पर दो देसी पिस्टल बरामद हुए हैं। युवराज जिस बाइक पर बैठा हुआ था, उसे भी पुलिस ने बरामद किया है। केशव और चुनचुन इस घटना की साजिश रचने में शामिल थे।

सुमित पुराना हिस्ट्रीशीटर
सुमित का पुराना आपराधिक रिकॉर्ड है और हिस्ट्रीशीटर भी है। केशव और बाकी के दोनों अपराधी इसके साथ ही काम करते हैं। सूत्रों के अनुसार सुमित का कनेक्शन शराब के अवैध धंधे से भी है।

पेट्रोल पंप लूटकांड में जेल जा चुका है केशव
14 सितंबर को केशव उर्फ नागा के चार भाइयों में से एक को पुलिस ने उठाया था। पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया, जिसके बाद केशब बीहट से भागा। इसी क्रम में ट्रेन में पकड़ा गया। वह बीहट में ही पेट्रोल पंप लूट कांड में पहले जेल जा चुका है।

गुरुवार दोपहर बेगूसराय पुलिस 2 आरोपियों को हिरासत में ले जाती हुई। इन्हीं दोनों से पूछताछ के बाद मास्टरमाइंड केशव को पकड़ा गया है।
गुरुवार दोपहर बेगूसराय पुलिस 2 आरोपियों को हिरासत में ले जाती हुई। इन्हीं दोनों से पूछताछ के बाद मास्टरमाइंड केशव को पकड़ा गया है।

11 लोगों को मारी थी गोली, एक की मौत
बेगूसराय के बछवारा थाना क्षेत्र के नेशनल हाईवे-28 स्थित गोधना क्षेत्र में 13 सितंबर को शाम 4 बजे फायरिंग की वारदात सामने आई थी। 40 मिनट तक चली इस फायरिंग में हाईवे के 25 किलोमीटर के बीच 5 जगहों पर बाइक सवारों ने गोलियां बरसाईं थीं।

झाझा रेलवे पुलिस ने केशव को पकड़ने के बाद उसे बेगूसराय पुलिस को सौंप दिया। बेगूसराय पुलिस देर रात उसे झाझा से जिला मुख्यालय लेकर आई।
झाझा रेलवे पुलिस ने केशव को पकड़ने के बाद उसे बेगूसराय पुलिस को सौंप दिया। बेगूसराय पुलिस देर रात उसे झाझा से जिला मुख्यालय लेकर आई।

फायरिंग में 11 लोगों को गोली लगी थी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। फायरिंग वाली पांच में से चार जगहों पर लोगों ने कहा-एक बदमाश बाइक चला रहा था तो पीछे बैठा दूसरा शख्स जिसे मन किया, गोली मारता रहा। वहीं, मल्हीपुर चौक पर पान की दुकान पर बैठे युवक ने कहा कि उसने देखा कि तीन बाइक से बदमाश आए थे।

वारदात के दूसरे दिन पांच थानों की पुलिस पूरे दिन हाईवे पर मुस्तैद रही। वारदात के दिन यही पुलिसवाले अन्य किसी थाने को एक अलर्ट तक नहीं भेज पाए।
वारदात के दूसरे दिन पांच थानों की पुलिस पूरे दिन हाईवे पर मुस्तैद रही। वारदात के दिन यही पुलिसवाले अन्य किसी थाने को एक अलर्ट तक नहीं भेज पाए।

जहां, जहां फायरिंग की... वहां से भास्कर रिपोर्ट

स्पॉट-1: बछवारा थाना क्षेत्र का गोधना

दो को गोली मारी, एक की मौत
शाम करीब साढ़े 4 बजे। यहीं पहली वारदात हुई। बदमाशों ने भारत फाइनेंस के कर्मचारी विशाल कुमार (26) को गोली मार दी। विशाल अपना काम पूरा करने के बाद पैसा जमा करने के लिए दुलारपुर स्टेट बैंक के पीछे अपने कार्यालय जा रहे थे। इसी बीच बाइक सवार बदमाशों ने गोधना स्कूल के पास उन्हें गोली मार दी। इसके बाद गोधना ठाकुरबाड़ी के पास बरौनी फ्लैग निवासी चंदन कुमार को गोली लगी। चंदन ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

स्पॉट-2: तेघड़ा थाना क्षेत्र का पिढ़ौली
बदमाश पहले स्पॉट से आधा किलोमीटर दूर स्थित तेघड़ा थाना की सीमा पर पिढ़ौली चौक पहुंचे। तब शाम के करीब 4:40 बजे होंगे। यहां भी बदमाश फायरिंग करते हैं। पिढ़ौली निवासी बृजकिशोर पाठक के 30 वर्षीय पुत्र गौतम कुमार को गोली लगती है। गौतम यहां के संगीता गैस एजेंसी में काम करते हैं। वह एजेंसी से गैस सिलेंडर उतारकर लौटे ही थे कि बदमाशों की फायरिंग में उन्हें गोली लग जाती है। वे वहीं अचेत पड़ जाते हैं। इसके बाद बदमाश यहां से भी आराम से निकल जाते हैं।

बदमाश शाम करीब 4:50 बजे दूसरे स्पॉट से 7 किलोमीटर दूर फुलवरिया थाना क्षेत्र के मोती चौक पहुंचे थे।
बदमाश शाम करीब 4:50 बजे दूसरे स्पॉट से 7 किलोमीटर दूर फुलवरिया थाना क्षेत्र के मोती चौक पहुंचे थे।

स्पॉट-3: फुलवरिया थाना क्षेत्र का मोती चौक

बदमाश शाम करीब 4:50 बजे दूसरे स्पॉट से 7 किलोमीटर दूर फुलवरिया थाना क्षेत्र के मोती चौक पहुंचे। यहां तेघड़ा अयोध्या चौक पर रघुनंदनपुर निवासी दीपक कुमार (28) को पीठ में गोली मार दी। वहीं, अयोध्या चौक पर ही समस्तीपुर जिले के दलसिंहसराय थाना क्षेत्र के ओरियामा गांव निवासी नीतीश कुमार और बरौनी फ्लैग निवासी अमरजीत को भी गोली मार दी। इसके बाद बदमाश फुलवारी से नेशनल हाईवे 31 की तरफ मुड़ गए।

FCI थाने के मल्हीपुर चौक पर बदमाशों की फायरिंग के दौरान एक पान दुकान में भी गोलियों के निशान हैं। हालांकि इस दौरान किसी को गोली लगी नहीं।
FCI थाने के मल्हीपुर चौक पर बदमाशों की फायरिंग के दौरान एक पान दुकान में भी गोलियों के निशान हैं। हालांकि इस दौरान किसी को गोली लगी नहीं।

स्पॉट-4: एफसीआई थाना क्षेत्र, मल्हीपुर चौक

तीसरे स्पॉट से 7 किलोमीटर दूर बदमाश मल्हीपुर चौक पहुंचे। इस समय 5 बजे रहे थे। पान की दुकान पर एक युवक ने बताया कि यहां सड़क किनारे तीन लोगों पर बदमाशों ने गोलियां चलाईं। आइसक्रीम बेचने वाले जीतू पासवान (25) को सबसे पहले गोली मारी गई। इसके बाद रंजीत कुमार (35) और ललीत कुमार (23) घायल हो गए।

पान की दुकान पर भी गोली चलाई गई, लेकिन गनीमत रही कि यह गोली किसी को नहीं लगी। दुकान पर बैठे युवक ने बताया कि तीन बाइक पर बदमाश सवार थे। हालांकि और जगहों पर प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि एक ही बाइक पर दो बदमाश थे, जो फायरिंग कर रहे थे।

इस स्थान पर एक व्यक्ति को गोली मार बदमाश आगे निकल गए।
इस स्थान पर एक व्यक्ति को गोली मार बदमाश आगे निकल गए।

स्पॉट-5: चकिया थाना क्षेत्र, थर्मल प्लांट

बदमाश चौथे स्पॉट से करीब 10 किलोमीटर दूर आगे पहुंचे। चकिया थाना क्षेत्र के थर्मल पावर प्लांट के पास भरत यादव (32) को गोली मार दी। आसपास के लोगों ने बताया कि वह थर्मल पावर प्लांट से काम कर साइकिल से कस्बा स्थित अपने घर जा रहे थे। यहां से 10 कदम आगे NTPC गेट पर बदमाश मोकामा निवासी प्रशांत कुमार (23) को गोली मार दी। प्रशांत भी अपने घर लौट रहे थे।

यहां पर नवीन कुमार यादव ने बताया कि करीब सवा 5 बजे की बात होगी, हम लोग खड़े होकर बात कर रहे थे, तभी एक बोलेरा आकर रुकी। उसमें से एक व्यक्ति उतरा और बताया कि आगे गोली मार दी। जब हम लोग भाग कर गए तो देखा कि भरत यादव जमीन पर छटपटा रहे थे। तब तक पता चला कि आगे भी किसी को गोली मारी गई है।

अब थानों का हाल जान लीजिए...

5 थानों से गुजरे हथियारबंद बदमाश, पुलिस अलर्ट तक नहीं भेज पाई

हथियारबंद बदमाश फायरिंग करते हुए पांच स्पॉट से बेखौफ गुजरे। खास बात यह है कि 30 KM की दूरी में सड़क किनारे ही बछवारा थाना, बरौनी थाना, जीरोमाइल थाना, एफसीआई थाना और चकिया थाना है। 40 मिनट तक बाइक सवार फायरिंग करते रहे और पुलिस का तालमेल देखिए कि वह आसपास के थानों को अलर्ट तक नहीं भेज पाई।

पुलिस बयान लेती रही और अपराधी सीमा पार करके निकल गए

आसपास के लोगों के मुताबिक बदमाश बाइक पर सवार थे। बाइक ड्राइव कर रहा बदमाश काले रंग की हेलमेट पहने हुए था। जो बदमाश गोली चला रहा था, वह गमछे से मुंह बांधे हुए थे। उसके हाथ में पिस्टल थी। प्रशांत कुमार को गोली मारने के बाद बदमाश पटना की ओर निकल गए। जब एक के बाद एक घायल अस्पताल पहुंचने लगे, तब जाकर पुलिस सक्रिय हुई। हालांकि ये सक्रियता भी सिर्फ बयान तक सिमट कर रह गई, क्योंकि पुलिस जब बयान ले रही थी, बदमाश बेगूसराय जिले की सीमा पार करके निकल गए।

वारदात में जान गंवाने वाले चंदन कुमार पावर ग्रिड में इंजीनियर थे। डेढ़ साल पहले ही उनकी शादी हुई थी। छह महीने की बेटी है।
वारदात में जान गंवाने वाले चंदन कुमार पावर ग्रिड में इंजीनियर थे। डेढ़ साल पहले ही उनकी शादी हुई थी। छह महीने की बेटी है।

चंदन की डेढ़ साल पहले शादी, 6 माह की बेटी

चंदन कुमार (32) बेगूसराय के बगरहा स्थित पावर ग्रिड में इंजीनियर थे। वह पंचायत समिति के सदस्य रह चुके हैं। डेढ़ साल पहले ही उनकी शादी हुई थी। छह महीने की बेटी है। गोली लगने की खबर सुनकर परिवार रोते-बिलखते मौके पर पहुंचा। गोद में बेटी को लिए पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल था।

घटना से जुड़ी इन खबरों को भी पढ़ें...