बगहा में बंद हुआ कटावरोधी काम:गंडक नदी का जलस्तर 33 हजार क्यूसेक पहुंचा, बगहा नगर के किनारे नदी हुई खतरनाक

बगहाएक महीने पहले

गंडक नदी के जल स्तर कम हो जाने के कारण गंडक नदी कटाव करना बंद कर दी है। इसके साथ ही ठकराहा समेत बगहा नगर के आसपास के लोगों ने राहत की सांस ली है। आज गंडक नदी का जल स्तर गिरकर 33 हजार क्यूसेक पहुंच गया है।

पिछले 10 दिनों में गंडक ने अपना रौद्र रूप धारण किया था। जिसके कारण शास्त्री नगर के हजारों एकड़ जमीन गंडक नदी में समाहित हो गए। वही गंडक नदी तकरीबन डेढ़ किलोमीटर कटाव कर बगहा नगर के समीप आ गई थी। लोगों की रातों की नींद उड़ गई थी। लेकिन जल स्तर काफी कम होने के कारण कटाव बंद हो गया है। जिसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली है।

बंद हो गया कटावरोधी काम

कटाव बंद होने के साथ ही बगहा नगर समेत ठकराहा के शिवपुर, हरखटोला आदि पर कटाव रोधी काम बंद हो गया है। इधर गंडक नदी भी शांत हो गई है। लेकिन जहां-जहां गंडक कटाव की है उसका किनारा खतरनाक हो गया है। वहां पर बच्चों को नहीं जाने देने के लिए प्रशासन ने अपील किया है। इसके साथ ही जिस जगह पर कटा हुआ है उसे अति संवेदनशील मानते हुए वहां पर छठ घाट पूजा करने से भी मना ही कर दी गई है।

ठकराहा में एंटीरोजन काम

ठकराहा के शिवपुर में लगभग आठ सौ मीटर नदी कछार में एंटीरोजन कार्य करने के लिए चिन्हित किया गया है। जबकि बगहा में एंटीरोजन रोजन कार्य केे लिए सभी जगहों को चिन्हित किया जा रहा है। इसमें बेडवार, ऐज कैरेटिंग और प्रकोपाइन का काम शामिल किया गया है। हालांकि इसके लिए अभी लोगों को इंतजार करना पड़ेगा।