7 इंसानों का शिकार करने वाले बाघ का एनकाउंटर होगा:ऑपरेशन में 400 फॉरेस्ट रेंजर्स

बगहा (वाल्मिकीनगर)2 महीने पहले

बिहार के वाल्मीकि टाइगर रिजर्व का बाघ आदमखोर हो गया है। इसने बीते 9 महीने में 8 लोगों पर हमले किए। इनमें से 7 की मौत हो गई। इसने दो दिन में ही दो लोगों को मार डाला है। इन घटनाओं से लोगों में जबर्दस्त गुस्सा है। उन्होंने शुक्रवार को वन विभाग के ऑफिस और गाड़ियों में तोड़फोड़ कर दी।

लोगों का गुस्सा देखते हुए शुक्रवार को चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन पीके गुप्ता ने बाघ को मारने का आदेश दे दिया है। 26 दिनों से 400 वनकर्मियों की टीम इसे तलाश कर रही है।

यह बाघ 5 अक्टूबर की देर रात घर में सो रही 12 साल की बच्ची को जबड़े में दबाकर ले जा रहा था। लोगों के शोर मचाने पर उसने शव छोड़ दिया। शुक्रवार सुबह बाघ ने डूमरी गांव के संजय महतो (35) पर खेत में हमला कर दिया। संजय की मौके पर ही मौत हा गई।

खबर में आगे बढ़ने से पहले आप इस पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दे सकते हैं...

लोगों का गुस्सा देखते हुए भाग गए वन विभाग के अफसर
गुस्साए लोगों ने वन विभाग के कार्यालय और चेक नाका पर तोड़फोड़ की। वन विभाग की गाड़ियों को भी निशाना बनाया जा रहा है। इन घटनाओं का वीडियो बनाने वाले युवकों के साथ मारपीट की जा रही है। लोगों के गुस्से को देख सभी वन कर्मी और वन विभाग के अधिकारी मौके से भाग निकले हैं। ये अधिकारी अलग-अलग गांव में छिपे हुए हैं। उस जगह से निकलने के लिए बाहर रास्ता भी नहीं है, क्योंकि लगातार हो रही बारिश के कारण नदियां अपने उफान पर है। ऐसे में पहाड़ी नदियों को पार करना आसान नहीं है।

बाघ को ढूंढने के लिए वन विभाग के कर्मी हाथी पर सवार होकर निकले हैं।
बाघ को ढूंढने के लिए वन विभाग के कर्मी हाथी पर सवार होकर निकले हैं।

अब तक 400 लोगों को रेस्क्यू में लगाया गया
बाघ का रेस्क्यू आज लगातार 26 दिनों से चल रहा है। इस काम में पहले 75 लोगों को लगाया गया। लेकिन जैसे-जैसे बाघ चकमा देने लगा, रेस्क्यू टीम बढ़ती गई। फिलहाल 400 लोगों को इस काम में लगाया गया है। इनमें लगभग 250 वन कर्मी स्थानीय हैं, जिन्हें वन विभाग ने ठेके पर बहाल किया है। इसमें वनप्रमंडल एक और प्रमंडल दो के वन कर्मियों को शामिल किया गया है।

9 महीने में 8 लोगों पर हमला, 7 की मौत

आदमखोर बाघ से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

सोते वक्त जबड़े में दबाकर ले गया; भीड़ ने दौड़ाया तो छोड़ी लाश
बगहा में आदमखोर बाघ के हमले में 12 साल की बच्ची की मौत हो गई। बच्ची घर में सो रही थी। रात में 12 बजे बाघ ने उसपर हमला किया। वो उसे जबड़े में दबाकर ले जा रहा था। बच्ची के चीखने की आवाज सुनकर जब भीड़ बाघ के पीछे दौड़ने लगी तो वो शव को छोड़कर भाग निकला। इस बाघ ने 9 महीने में ये 7वां शिकार किया है। इसमें 6 लोगों की मौत हो गई है। वन विभाग की 400 लोगों की टीम 25 दिनों से बाघ को पकड़ने में लगी है। पढ़ें पूरी खबर

बाप-बेटे की लड़ाई में इंसानों की मौत
वाल्मीकि टाइगर रिजर्व पार्क के अफसरों के मुताबकि जंगल में बाप-बेटा बाघों के बीच क्षेत्र की लड़ाई में इंसानों की मौत रही है। वयस्क बाघ सी-वन अपना क्षेत्र बनाना चाहता है। इसके लिए वह दूसरे बाघ टी-5 की सीमा में प्रवेश कर रहा है। बाघ टी-5, बाघ सी-1 का पिता है। बाघ सी-वन सीमाओं के पास बसे इंसानी बस्ती तक आ जा रहा है। पूरी खबर पढ़ें...