सुविधा बढ़ी:30 बेड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लौरिया का सीएम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से किया उद्घाटन

लौरियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के उद्घाटन के दौरान उपस्थित लोग। - Dainik Bhaskar
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के उद्घाटन के दौरान उपस्थित लोग।
  • स्थानीय जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों को आमंत्रित नहीं करने पर रोष

लौरिया में नवनिर्मित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से उद्घाटन किया। नया और अत्याधुनिक साज सज्जा से निर्मित नए अस्पताल को देखकर सारे लोग खुश थे। इधर अस्पताल परिसर को सजा कर रखा गया था। अस्पताल में पहुंचे स्थानीय सांसद सुनील कुमार कुशवाहा ने कहा कि मरीजों से संबंधित जितनी समस्याएं हैं, यहां रोगियों के उपचार के लिए जिस तरह की आवश्यकता है, हमें बतावें। मैं स्वास्थ्य मंत्री से मुलाकात कर उन्हें अवगत करवाऊंगा। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी कुमार सचिन किशोर ने कहा कि कम संसाधन में हमें बेहतर इलाज करने की कोशिश करना है। यह अस्पताल 30 बेड का है। वहीं डॉ अंजारूल ने कहा कि सभी चिकित्सकों को मानसिकता बदलने की जरूरत है।

मरीजों को बेवजह यहां से रेफर करने से बचना चाहिए। जब हम योग्य डॉक्टर हैं और हम मरीज का अच्छा से इलाज करने में समर्थ हैं तो क्यों रेफर करें। यदि हमारे इलाज से मरीज बच सकता है तो उसे हम अपने दायित्व से मुकर नहीं सकते हैं।इधर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के उद्घाटन समारोह में लौरिया के प्रबुद्ध जनप्रतिनिधियों, स्थानीय अधिकारियों और पुलिस प्रशासन को अस्पताल के पदाधिकारी द्वारा नहीं आमंत्रित करने पर कई सामाजिक लोगों में रोष का माहौल रहा। उद्घाटन समारोह को डॉ दिलीप, डॉ शत्रुधन, शंभू यादव, ज्वाला सिंह, कन्हैया प्रसाद कुशवाहा, विजय कुमार सिंह ओटी बाबू आदि ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ कुमार सचिन किशोर ने किया तो संचालन हिमांशु कुमार ने किया।

अनुमंडलीय अस्पताल में हुए प्रगति कार्यों का सीएस और डीपीएम ने लिया जायजा

मिशन 60 डेज के तहत अनुमंडलीय अस्पताल में हुए कार्यो की प्रगति को लेकर देर शाम सीएस डॉ.वीरेंद्र कुमार एवं डीपीएम सलीम जावेद द्वारा अनुमंडलीय अस्पताल का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के क्रम में अस्पताल में जारी पिछले कार्यो में कोई प्रगति नहीं देखने को मिली। काम मे तेजी लाने को लेकर सीएस द्वारा अस्पताल उपाधीक्षक को कई निर्देश दिए गए। डीपीएम सलीम जावेद ने बताया की अस्पताल को सदर अस्पताल में विकसित करने के लिए पिछले दिनों से कई कार्य हो रहे हैं। लेकिन निरीक्षण के क्रम में कोई प्रगति नहीं दिखी।

जैसे अस्पताल का पेंट, पोचारा, माइनर रिपेयरिंग तथा शौचालयों के सीट बदलने के निर्देश दिए गए थे। लेकिन इसमें कोई काम नहीं हुआ दिखा। जिसको लेकर अस्पताल उपाधीक्षक को कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए गए। उन्होंने बताया की अस्पताल के ऑक्सीजन प्लांट के बगल में बायो केमिकल वेस्ट स्टोर बनाया जाएगा। जहां अस्पताल से निकले कचरे को एक जगह इकट्ठा किया जाएगा। अस्पताल के कचरे को इधर उधर नहीं फेंका जाएगा। वहीं सीएस द्वारा अस्पताल के अन्य विभागों का भी निरीक्षण किया गया। मौके पर उपरोक्त पदाधिकारियों के अलावे अस्पताल के चिकित्सक एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित रहे। अनुमंडलीय अस्पताल को सदर अस्पताल के रूप में प्रोन्नत करने के लिए सरकार द्वारा कई कदम उठाए गए हैं। जिसको लेकर प्रतिदिन राज्य से लेकर जिले तक के पदाधिकारियों का आना जाना लगा हुआ है।

खबरें और भी हैं...