बेतिया में माले का प्रदर्शन:मजदूर के बदले ट्रैक्टर लगाने का माले ने किया विरोध, ट्रैक्टर लेकर फरार हुआ ड्राइवर

बेतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बेतिया में त्रिवेणी कैनाल के तल की सफाई में मजदूर के बदले ट्रैक्टर से सफाई कराने पर स्थानीय मजदूरों ने जमकर बवाल काटा है। बता दें इसकी जानकारी जैसे ही माले के अंचल सचिव अच्छेलाल राम, जिला सदस्य सीताराम राम, सुभाष चन्द्र कुशवाहा को मिली तो नहर के पास पहुंचने पर नहर की सफाई करने वाले ट्रैक्टर चालक ट्रैक्टर लेकर भाग खड़ा हुआ।

मौके पर माले की टीम में शामिल कार्यकर्ताओं ने कहा कि बिहार के डबल इंजन सरकार की योजनाओं का धड़ल्ले से नियमों का दुरुपयोग हो रहा है। सुशासन सरकार एक तरफ कह रही है कि त्रिवेणी कनाल में सुचारू रूप से नहर में सिंचाई के पानी देने के लिए सफाई कार्य करवा रही है। जिसमें 26 दिनों तक प्रत्येक दिन 1750 मजदूरों को 304 रूपये के मजदूरी के दर पर रोजगार मुहैया कराने का ढिंढोरा पीट रही है।

मैंनाटाड़ भाकपा माले कमिटी त्रिवेणी कनाल के सफाई कार्य का मुआयना करने चली तो देखा कि मशीन और ट्रैक्टर द्वारा नाहर की पेटी को जोता जा रहा है और सरकारी योजनाओं का चूना लगा दिया जा रहा है गरीब मजदूरों का हक मारी कर दबंग पूंजीपति दलाल मालामाल हो रहे हैं। जब जांच दल पहुंचे तो नहर से सिंहासनी चौक से चौराहा के बीच गाड़ी लेकर भागने लगे। सरकार और प्रशासन से गरीब मजदूर जनता रोजगार की आस लगाए बैठी है। तो वहीं उनकी रोजी-रोटी छीन कर भ्रष्ट अधिकारी के मिलीभगत से यह सारा खेल चल रहा है।

सरकार जनता को रोजगार देने में फेल है। इसके कारण बिहार के मजदूरों को प्रवास करना पड़ता है। लद्दाख, पंजाब सहित अन्य राज्यों का रास्ता देखना पड़ता है ।घर बार छोड़कर महानगरों के तरफ मुंह मोड़ना पड़ता है। अगर सरकार मजदूरों को रोजगार देने में फेल होती है तो हम लोग बड़ा आंदोलन करने से पीछे हटने वाले नहीं है।