• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bettiah
  • The Children Said Papa Is Not Buying The Book, DM Said If The Children Do Not Get The Dress And Book In 5 Days, The Amount Will Be Returned

जानकारी ली, टास्क सौंपे:बच्चों ने कहा- पापा नहीं खरीद रहे किताब , डीएम बोले- 5 दिन में बच्चों को पोशाक व किताब नहीं मिली तो राशि होगी वापस

बेतियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल में बच्चों के शैक्षणिक स्तर की जांच करते डीएम। - Dainik Bhaskar
स्कूल में बच्चों के शैक्षणिक स्तर की जांच करते डीएम।
  • उत्क्रमित मध्य विद्यालय सेमरबारी का डीएम ने किया औचक निरीक्षण, आंगनबाड़ी केंद्र पर जायजा के दौरान मिली बदबू, जताई नाराजगी

भितहा के सेमरबारी स्थित राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय का औचक निरीक्षक करने के लिए डीएम कुंदन कुमार बुधवार को इस स्कूल में पहुंचे तो ज्यादातर बच्चे निर्धारित ड्रेस में नहीं पाए गए। बच्चों के पास किताबें भी मौजूद नहीं थीं। डीएम ने बच्चों से इसका कारण पूछा तो भोले - भाले बच्चों ने बताया कि बार-बार कहने के बावजूद पापा ड्रेस एवं किताब की खरीद नहीं रहे हैं। डीएम ने इसपर कड़ी नाराजगी जताते हुए शिक्षकों को हिदायत दी कि वे अभिभावकों से मिलकर ड्रेस व किताब खरीदने के लिए प्रेरित करें।

अगर पांच दिन के अंदर ड्रेस व किताब बच्चों के लिए नहीं खरीदी गई तो उनके खाते से इस मद की राशि वापस कराई जाएगी। हालांकि डीएम ने इस स्कूल की वॉल पेंटिंग देखकर सराहना की। फिर वे वर्ग कक्षों में पहुंचे तथा उनका क्लास लेते हुए बच्चों के शैक्षिक स्तर व पठन-पाठन से संबंधित विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने स्कूल के एचएम सुरेंद्र यादव को कई टास्क भी सौंपे। डीएम ने अभिभावकों से बात करते हुए कहा कि इन बच्चों की जिंदगी शिक्षा के बल पर ही संवरेगी।

मुखिया व एचएम प्रत्येक महीने में एक बार अभिभावकों के साथ करें बैठक

निरीक्षण के दौरान डीएम ने कहा कि महीने में एक बार मुखिया एवं स्कूल के एचएम अभिभावकों के साथ बैठक करें, ताकि बच्चों के शैक्षिक विकास में अभिभावकों की तत्परता सुनिश्चित की जा सके। यह बैठक प्रत्येक स्कूल की ओर से होनी चाहिए। कोई भी बच्चा बिना ड्रेस या किताब के विद्यालय में नहीं दिखना चाहिए।

आंगनबाड़ी केंद्र के भवन की खराब स्थिति को देख कर सीडीपीओ को फटकार लगाई

डीएम ने सेमरबारी बाजार स्थित आंगनबाड़ी केंद्र संख्या एक के निरीक्षण के दौरान भवन की खराब स्थिति देखकर उन्होंने सीडीपीओ को फटकार लगाई। आंगनबाड़ी केंद्र के अंदर से आ रही बदबू के कारण भी डीएम ने काफी नाराजगी व्यक्त की। डीएम सेमरबारी बाजार स्थित मनरेगा भवन भी पहुंचे तथा जांच की।

ग्रामीण बोले- नहीं मिलता है स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ, इलाज के लिए जाना पड़ता है यूपी

डीएम ने सेमरबारी गांव के ग्रामीणों से स्वास्थ्य सुविधा के संबंध में जानकारी ली। जहां ग्रामीण कैलास प्रसाद, जनार्दन यादव व दुर्गेश गुप्ता आदि ने डीएम को बताया कि इस पंचायत का कोई व्यक्ति बीमार पड़ जाए या किसी गर्भवती को प्रसव कराना हो तो यूपी में पड़रौना जाना पड़ता है। भितहा पीएचसी में पहुंचते ही वहां के डॉक्टर रेफर कर देते हैं। डीएम इस पर काफी गंभीर नजर आए। उन्होंने आवास योजना की प्रगति का भी जायजा लिया।

खबरें और भी हैं...