दबंगई:हार से बौखलाए सचिन ने समर्थकों के साथ नवनिर्वाचित मुखिया के घर की तोड़फोड़

अलौलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हंगामा के दौरान टूटी कुर्सियां - Dainik Bhaskar
हंगामा के दौरान टूटी कुर्सियां
  • गौड़ाचक में मुखिया पद की कुर्सी की लड़ाई में पूर्व मुखिया महेन्द्र यादव के पुत्र को 679 वोट से मिली करारी हार

बुधवार को संपन्न हुए नौंवें चरण के पंचायत चुनाव के मतगणना में मुखिया पद से मिल हार से बौखलाए अलौली प्रखंड के गौड़ाचक पंचायत के पूर्व मुखिया के पुत्र सह निवर्तमान मुखिया प्रत्याशी ने पंचायत के नवनिर्वाचित मुखिया राकेश कुमार के घर पर अपने समर्थकों के साथ धावा बोलकर न सिर्फ तोड़फोड़ की बल्कि मुखिया के परिजनों एवं उनके कई समर्थकों के साथ जमकर मारपीट की। इस मारपीट में करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए। जिसमें चार लोगों को गंभीर चोटें आई है। बताते चलें कि बुधवार की देर शाम जिला मुख्यालय स्थित मतगणना हॉल में गौड़ाचक पंचायत से मुखिया पद पर राकेश कुमार के जीत की घोषणा की गई तो दूसरे स्थान पर रहे सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव वहां से अपने दर्जनों समर्थकों के साथ गांव लौट आए। इसके बाद वहां नवनिर्वाचित मुखिया के परिवार वालों से मारपीट शुरू कर दी।

मामले में नवनिर्वाचित मुखिया राकेश कुमार ने बताया कि रात में जब हमलोग चुनाव जीतकर अपने घर आए तो दिलीप यादव अपने समर्थकों के साथ पहुंचकर मेरे चाचा प्रवीण कुमार पंकज, सतीश कुमार बादल और पवन कुमार के साथ जबरन मारपीट शुरू कर दिया। जब मेरे दरवाजे से लोग बचाने के लिए गए तो सभी लोगों ने मेरे घर पर आकर तोड़फोड़ की। इस दौरान मैंने खुद को घर के एक कमरे में बंद होकर अपनी जान बचाई तो जिला प्रशासन के अधिकारियों से सुरक्षा की गुहार लगाई। जिसके बाद पुलिस आई तो पुलिस के सामने भी उनलोगों के द्वारा जमकर हंगामा गाली गलौज और ताेड़फोड़ की गई। इधर खुलेआम गांव में आतंक फैलाने वाले मुखिया प्रत्याशी सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव सहित चार लोगों को बुधवार देर रात ही बहादपुर ओपी पुलिस ने हिरासत में ले लिया। मगर इस मामले में कानूनी कार्रवाई के बजाय बहादपुर ओपी अध्यक्ष अशोक कुमार सिंह गुरुवार को दिनभर पंचायत कर सुलह करने में लगे रहे। जिससे चुनावी रंजिश में इस तरह की वारदात होने देने वालों को बल मिल रहा है और पुलिस की कार्यशैली भी दागदार हो रही है।

किसी भी पक्ष ने नहीं दिया आवेदन
बहादुरपुर ओपी अध्यक्ष अशोक कुमार सिंह ने बताया कि पूर्व मुखिया के पुत्र सह मुखिया प्रत्याशी सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव अपनी हार होने से बौखला गए हैं। उन्हें मुखिया पद से 679 वोट से हार का सामना करना पड़ा। राकेश कुमार की जीत की घोषणा के बाद उनके घर पर तोड़फोड़ की गई और उनके भाई, चाचा एवं अन्य लोगों के साथ मारपीट कर जख्मी कर दिया गया। इसके अलावा नवनिर्वाचित मुखिया के समर्थक विनोद यादव के घर पर जाकर मोटरसाइकिल कुर्सी समेत घर के कई सामान तोड़फोड़ कर बर्बाद कर दिया गया। ओपी अध्यक्ष ने बताया कि मामले में किसी पक्ष के द्वारा अभी तक आवेदन नहीं दिया गया है।

16 नामजद और 45 अज्ञात लोगों पर दर्ज की गई प्राथमिकी
अलौली | मुखिया प्रत्याशी सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव समेत उनके नौ समर्थकों को गिरफ्तार किया गया। बताते चलें कि मुखिया पद से चुनाव हारने के कारण सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव द्वारा अपने समर्थकों के साथ नवनिर्वाचित मुखिया राकेश कुमार के घर पर जाकर तोड़फोड़ और मारपीट किया गया। मामले में प्रशासन के तरफ से सरकारी कार्य में बाधा को लेकर सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव समेत 9 लोगों गुरुवार को गिरफ्तार किया गया। मामले में अलौली के सहायक थानाध्यक्ष मनोज कुमार ने बताया गया कि सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव के समर्थकों के द्वारा बार-बार सरकारी कार्य में बाधा डाला जा रहा था। चुनाव के दौरान कई बार इन्होंने हंगामा करने का काम भी किया। जिसके कारण उनके प्रतिद्वंदी डर गए। लेकिन पुलिस के तरफ से कार्रवाई करते हुए धारा 353, 147, 341, 323, 504 एक्ट में गिरफ्तार करते हुए जेल भेज दिया गया। प्रभारी थानाध्यक्ष ने बताया कि मामले में मुखिया प्रत्याशी सचिन कुमार उर्फ दिलीप यादव के अलावा उमाशंकर यादव, मनीष यादव, मिंटू यादव, राजीव यादव, अमर कुमार सहित कुल नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

खबरें और भी हैं...