पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंचायत चुनाव:23 महिला सहित 40 दारोगा की जिले में तैनाती

अररिया18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पंचायत चुनाव में प्रशासन को सहायता, जिले में 236 पद स्वीकृत 98 थे पदस्थापित

जिले में होने वाले पंचायत चुनाव के ठीक पहले एक साथ तीन दर्जन से अधिक दरोगा की गई है। बिहार पुलिस अकादमी राजगीर से ट्रेनिंग प्राप्त हैं। वर्ष 2018 बैच के सभी दारोगा को विभिन्न जिलों में पदस्थापित किया गया। इसी कड़ी में अकादमी के सहायक निदेशक (प्रशासन) डॉ. इनामुल हक मेंगनु ने आदेश जारी कर दरोगा की पोस्टिंग की है। सभी दरोगा अररिया जिला में व्यवहारिक प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। 40 दरोगा की पोस्टिंग होने के कारण जिला प्रशासन को विधि व्यवस्था संधारण में आसानी होगी। बता दें कि 40 में 23 महिला दरोगा की पोस्टिंग हुई है। एक की पोस्टिंग कुछ दिन पहले हुई है।

23 महिला दारोगा की पोस्टिंग
नुसरत प्रवीण, ज्योति कुमारी गुप्ता, शिल्पा कुमारी, पूजा कुमारी, कनक लता, सुधा रानी, डोली कुमारी, वंदना कुमारी, राजनंदनी सिन्हा, अनुराधा कुमारी, प्रीति कुमारी, सुमि स्वराज, कुमारी जुली, अंजना रंजन, रूपा कुमारी, शिपा राज, प्रियंका कुमारी, मधु कुमारी, लाली कुमारी, पूनम कुमारी, रूबी कुमारी, अंजू कुमारी, सुनीता कुमारी की पोस्टिंग हुई है।

16 पुरुष पुअनि को अररिया में किया गया तैनात
बिहार पुलिस अकादमी की तरफ से श्रवण कुमार राम, दीपक कुमार, रवि कुमार राय, धनोज कुमार गुप्ता, राकेश कुमार, दीपक कुमार, प्रकाश कुमार, रौशन कुमार, अमित कुमार, अभिषेक कुमार, अमर कुमार, दीपक कुमार, रौनक कुमार, विकास कुमार मौर्य, नरेंद्र कुमार प्रसाद, विमलेश चौधरी, संजय कुमार सिंह को तैनात किया।

जिले में 236 पुलिस अवर निरीक्षक के पद स्वीकृत
अररिया जिले में पुलिस अवर निरीक्षक के 236 पोस्ट स्वीकृत हैं। जिसमें 98 एसआई पहले से यहां पोस्टेड हैं। अब 40 की पोस्टिंग और हुई तो इसकी संख्या 138 हो गयी है। नए आने वाले दारोगा को पंचायत चुनाव में भी लगाया जाएगा। पुलिस लाइन के मेजर सार्जेंट इंस्पेक्टर शिवचरण साह ने कहा कि अकादमी से आने वाले नए दरोगा योगदान देंगे।

चुनाव में काम करने से नए लोगों को मिलेगा अनुभव
एसपी हृदय कांत ने बताया कि बुनियादी प्रशिक्षण के बाद व्यवहारिक प्रशिक्षण में लौटे दारोगा चुनाव में काम करने का भी अनुभव मिलेगा। सभी नए दारोगा को व्यवहारिक प्रशिक्षण के लिए थाना भेजा जाएगा। खासकर चुनाव के दौरान छापामारी या अन्य विधि व्यवस्था संधारण के काम मे लगाया जाएगा। उन्होंने बताया कि व्यवहारिक प्रशिक्षण एक साल तक चलेगी। साथ ही जिला पुलिस बल की कमी भी दूर होगा।

खबरें और भी हैं...